क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
सलाहकार लेखअपनी खेती
कपास में खरपतवार प्रबंधन
कपास की फसल में खरपतवार मुख्य समस्या है जिसके कारण पैदावार में कमी आती है। बुवाई से 50-60 दिनों तक कपास का खेत खरपतवार मुक्त होना चाहिए। यह अच्छी उपज के लिए आवश्यक है। बुवाई के 5-6 सप्ताह बाद या पहली सिंचाई से पहले हाथ से खर-पतवार हटाएं। साथ ही हर सिंचाई के बाद इस प्रक्रिया को दोहराएं। कपास के खेत के आसपास गाजर (कांग्रेस) घास न उगने दें। इससे कपास में मिलीबग का संक्रमण होता है।_x000D_ _x000D_ बुवाई के बाद खरपतवारों को नियंत्रित करें लेकिन इनके उगने से पहले ही, पेंडीमेथालिन @25-33 मिली/10 लीटर पानी का छिड़काव करें। पैराक्वाट (ग्रामोक्सोन) 24% WSC @500 मिली/एकड़ या ग्लाइफोसेट @1 लीटर/एकड़ 100 लीटर पानी में मिलाकर बुवाई के 6 से 8 सप्ताह बाद, जब फसल की ऊंचाई 40-45 सेमी हो दें। फसल 2,4-D खरपतवारनाशी के प्रति अत्यधिक संवेदनशील है। इसका छिड़काव कपास की फसल पर न करें। साथ ही कपास के आस-पास के खेतों की फसलों पर भी नहीं करें। खरपतवारनाशी का छिड़काव सुबह के समय या शाम को किया जाना चाहिए।_x000D_ _x000D_ स्रोत: अपनी खेती
यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
68
0
संबंधित लेख