AgroStar
ICAR-ने जारी की फाइटिक एसिड मक्के की हाईब्रिड किस्म!
कृषि वार्ताAgrostar
ICAR-ने जारी की फाइटिक एसिड मक्के की हाईब्रिड किस्म!
🌽नमस्कार किसान भाईयों स्वागत है आप सभी का एग्रोस्टार के कृषि ज्ञान में,जलवायु परिर्वतन की वजह से बारिश में अनिश्चितता और अधिक बारिश के हालात बने हुए हैं. इस बीच देश के विभिन्न राज्यों की सरकारें जलवायु परिर्वतन से निपटने और जमीन की उर्वरक क्षमता को बनाए रखने के लिए फसल विविधिकरण पर जोर दे रहे हैं. जिसके तहत कई राज्य सरकारें मक्के की खेती पर अधिक ध्यान दे रहे हैं. इस बीच मक्के की खेती करने वाले किसानों के लिए एक बड़ी खबरी सामने आई है. असल में इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मक्का रिसर्च (ICAR-IIMR) लुधियाना ने पहली कम फाइटिक एसिड मक्का की हाइब्रिड किस्म जारी की है. जिसका नाम पीएमएच 1-एलपी है. इस हाईब्रिड किस्ममक्के की व्यावसायिक खेती करने वाले किसानों के लिए बेहद ही फायदेमंद मानी जा रही है. 🌽मक्के की पीएमएच 1 किस्म का उन्नत वर्जन:- इन राज्यों के किसानों के लिए है फायदेमंद यह पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड के मैदानी इलाके के साथ ही पश्चिमी यूपी और दिल्ली के किसानों के लिए बेहद ही फायदेमंद मानी जा रही है. 🌽एक हैक्टेयर में 95 क्विंटल का उत्पादन:- जानकारी के मुताबिक पीएमएच 1-एलपीकिस्म की उपज क्षमता 95 क्विंटल प्रति हेक्टेयर से अधिक है. यह किस्म मेडिस लीफ ब्लाइट, टरसिकम लीफ ब्लाइट, चारकोल रोट जैसे प्रमुख रोगों के लिए मध्यम प्रतिरोध है और साथ ही मक्का स्टेम बेधक और फॉल आर्मीवर्म जैसे कीट भी हैं. पोल्ट्री क्षेत्र में हाइब्रिड के महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की उम्मीद है. 🌽IIMR लुधियाना ने मक्के की पहली फायटिक एसिड किस्म PMH1-LP के साथ ही IMH 222, IMH 223 और IMH 224 भी जारी की है. स्त्रोत:-Agrostar 🌿किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
3
1
अन्य लेख