क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
सफलता की कहानीकृषि जागरण
हल्दी की खेती कर उत्तरप्रदेश का ये किसान हुआ मालामाल!
👉🏻देश के अलग-अलग हिस्सों में अब किसान परंपरागत खेती से हटकर आधुनिक खेती करके नई नज़ीर पेश कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले के बरतौरा गांव यशवंत सिंह त्यागी हल्दी की सफल खेती करके अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं। वे पिछले 15 सालों से हल्दी की खेती कर रहे हैं और लाखों रुपये का मुनाफा कमा रहे हैं। तो आइए जानते हैं यशवंत की सफलता की कहानी- 👉🏻गीली हल्दी 3500 रुपये क्विंटल:- यशवंत त्यागी का कहना है कि उन्होंने साल 2005 में हल्दी की खेती करना शुरू किया था। उस समय उन्होंने पदमश्री विजेता भारत भूषण त्यागी से हल्दी की खेती करने की ट्रैनिंग ली थी। उन्हें शुरुआत में अपने क्षेत्र में हल्दी की खेती करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। लेकिन धीरे-धीरे यहां कि जमीन हल्दी की खेती के अनुकूल हो गई। वे एक बीघा से 22 क्विंटल तक की उपज लेते हैं। यशवंत आगे बताते हैं कि उनकी गीली हल्दी 3000 से 3500 रुपये क्विंटल बिक जाती है। जिससे सालभर में लाखों रुपये की कमाई होती है। 👉🏻गोबर खाद का उपयोग:- हल्दी की अच्छी उपज के लिए वे अपने खेत में गोबर खाद का उपयोग करते हैं। वहीं आवश्यकता अनुसार कैल्शियम डालते हैं। यशवंत अपने खेत में हल्दी के साथ गन्ना, सरसों और गेहूं की सहफसली लेते हैं। जिससे उन्हें अतिरिक्त आय मिल जाती है। उन्होंने इस साल हल्दी अप्रैल माह में लगाई थी। इस समय उनके खेत में हल्दी की फसल लहलहा रही है। जिसे वे कुछ दिनों में निकालने वाले हैं। 👉🏻170 रुपये किलो बेचते हैं:- अधिक मुनाफा कमाने के लिए यशवंत ने अब हल्दी पाउडर के लिए मिनी हल्दी मशीन भी लगा ली है। इससे पैकिंग करके वे हल्दी बेचते हैं जिससे उन्हें प्रति किलो 170 रुपये मिलते हैं। इससे उनकी आमदानी में अच्छा इजाफा हो जाता है। उनका कहना है कि कोरोना काल में भी अच्छी मांग के कारण उनकी हल्दी अमरोहा समेत कई जगहों पर आसानी से बिक गई। हल्दी की अच्छी पैदावार के लिए 6 सिंचाई की जरुरत पड़ती है।
स्रोत:- कृषि जागरण, प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक👍करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
6
2
संबंधित लेख