एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
गन्ने की फसल में पत्ती की लाल धारी रोग का नियंत्रण!
गन्ने की पत्तियाँ पर लाल रंग की धारियां निचली सतह पर पड़ जाती है जिसके अत्यधिक प्रकोप की दषा में पूरी पत्ती लाल हो जाती है। पत्तियाँ का क्लोरोफिल समाप्त हो जाता है तथा बढवार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। यह रोग बारिश के मौसम में (जून से सितम्बर तक) तक अधिक देखा जाता है। इसकी रोकथाम के लिए रोग प्रतिरोधी प्रजातियों का ही प्रयोग करना चाहिए। पौधशालाओं के लिए खेत का चयन में समुचित जल निकास की व्यवस्था सुनिश्चित कर लेनी चाहिए। ताकि वर्षा ऋतु में पानी का जमाव न हो सके। ट्राइकोडर्मा 2.5 किग्रा प्रति हेक्टेयर की दर से 75 किग्रा गोबर की खाद में मिलाकर प्रयोग करना चाहिए।
यदि आपको आज के सुझाव में दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
8
2
संबंधित लेख