क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
सोयाबीन की फसल में में एकीकृत कीट प्रबंधन!
गर्मी में गहरी जुताई करके फसलों एवं खरपतवारों के अवशेष को नष्ट कर देना जिससे कीट/रोग के अवशेष उन्हीं के साथ नष्ट हो जायें और उनकी वृद्धि पर नियन्त्रण पाया जा सके।_x000D_ समुचित फसल चक्र अपनाया जाना चाहिए।_x000D_ फसल के प्रतिरोधी प्रजातियों के मानक बीजों की बुवाई करना चाहिए।_x000D_ हमेशा बीज को शोधित करके बोना चाहिए।_x000D_ बुवाई समय से व एकसार की जाय, पौधों से पौधों की वांछित दूरी बनाये रखी जानी चाहिए।_x000D_ उर्वरकों का संतुलित उपयोग किया जाना चाहिए।_x000D_ समुचित जल प्रबन्ध अपनाया जाय।_x000D_ निराई-गुड़ाई करके समय से खरपतवारों को नष्ट करते रहें। _x000D_ सर्वेक्षण द्वारा नाशीजीव एवं उनके प्राकृतिक शत्रुओं पर बराबर निगाह रखी जाय और यदि नाशीजीव प्राकृतिक शत्रु से बराबर अधिक मात्रा में हों तभी रासायनिक उपचार अपनाया जाय।_x000D_ नाशीजीव के अण्ड समूह एंव इल्लियों को प्रारम्भिक अवस्था में नष्ट करते रहें।_x000D_ प्रकाश/फेरोमैन ट्रैप का उपयोग करके नाशीजीव के प्रौढ़ को नष्ट किया जाय।_x000D_ नाशीजीव के प्राकृतिक शत्रुओं की संख्या में वृद्धि करने के लिए उन्हें बाहर से लाकर खेतों में छोड़ा जाय।
स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस यदि आपको दी गई जानकारी उपयोगी लगे, तो लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
28
2