क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
सलाहकार लेखकृषि विभाग उत्तर प्रदेश
धान की फसल में एकीकृत कीट प्रबंधन!
शस्य क्रियायेः_x000D_ गर्मी की मिट्टी पलट हल से गहरी जुताई करने से भूमि में कीटों की विभिन्न अवस्थायें जैसे- अण्डा, सूड़ी, शंखी एवं प्रौढ़ अवस्थायें नष्ट हो जाती हैं तथा चिडिया भी कीटों को चुगकर खा जाती हैं। इसके अतिरिक्त भूमि जनित रोगों यथा-उकठा, जड़ सड़न, डैम्पिंग आफ, कालर राट, आदि भी सूर्य के प्रकाश में नष्ट हो जाते हैं। _x000D_ इसी प्रकार खरपतवारों के बीज भी मिट्टी में नीचे दब जाते हैं, जिससे खरपतवारों को जमाव बहुत ही कम हो जाता है। स्वस्थ एवं रोगरोधी प्रजातियों की बुवाई/रोपाई करना चाहिए।_x000D_ बीज शोधन कर समय से बुवाई/रोपाई के साथ-साथ फसल चक्र अपनाना चाहिए।_x000D_ नर्सरी समय से उठी हुई क्यारियों पर लगाना चाहिए।_x000D_ पौधों से पौधों और लाइन से लाइन के बीच वॉछित दूरी रखना चाहिए।_x000D_ उर्वरकों की संस्तुत मात्रा का प्रयोग करना चाहिए।_x000D_ खेत के मेड़ों को घासमुक्त एवं साफ सुथरा रखना चाहिए।_x000D_ जल निकास का समुचित प्रबंध करना चाहिए।_x000D_ कटाई जमीन की सतह से करना चाहिए।_x000D_ फसलों के अवशेषों को नष्ट कर देना चाहिए।_x000D_ _x000D_ यांत्रिक नियंत्रणः_x000D_ धान के पौधे की चोटी काटकर रोपाई करना चाहिए।_x000D_ खेतों से अण्डों व सड़ियों को यथा सम्भव एकत्र करके नष्ट कर देना चाहिए।_x000D_ कीट एवं रोग ग्रसित पौधों की पत्तियां अथवा आवश्यकतानुसार पूरा पौधा उखाड़ कर नष्ट कर देना चाहिए।_x000D_ खरपतवारों को निराई-गुड़ाई द्वारा खेत से निकाल देना चाहिए।_x000D_ हिस्पा ग्रसित पौधों की पत्तियों का उपरी हिस्सा काट देना चाहिए।_x000D_ खेतों में प्रकाश-प्रपंच का प्रयोग कर हानिकारक कीटों को नष्ट कर देना चाहिए।_x000D_ तना बेधक कीट के आंकलन एवं नियंत्रण हेतु फेरोमोन प्रपंच का प्रयोग करना चाहिए।_x000D_ _x000D_ जैविक नियंत्रणः_x000D_ खेत में मौजूद परभक्षी यथा मकड़ियॉ, वाटर वग, मिरिड वग, ड्रेगन फ्लाई, मिडो ग्रासहा पर आदि एवं परजीवी यथा ट्राइकोग्रामा (बायो एजेण्ट्स) कीटों का संरक्षण करना चाहिए।_x000D_ परजीवी कीटों को प्रयोगशाला में सवंर्धित कर खेतों में छोड़ना चाहिए।_x000D_ शत्रु एवं मित्र (2:1) कीटों का अनुपात बनाये रखना चाहिए।_x000D_ आवश्यकतानुसार बायोपेस्टीसाइड्स का प्रयोग करना चाहिए।_x000D_ _x000D_ रासायनिक नियंत्रणः_x000D_ कीट एवं रोग नियंत्रण हेतु कीटनाशी रसायनों का प्रयोग अंतिम उपाय के रूप में करना चाहिए।_x000D_ सुरक्षित एवं संस्तुत रसायनों को उचित समय पर निर्धारित मात्रा में प्रयोग करना चाहिए।_x000D_ रसायनों का प्रयोग करते समय सावधानियॉ अवश्य बरतनी चाहिए।_x000D_ खरपतवार नाशकों का प्रयोग दिशा-निर्देशों के अनुसार ही करना चाहिए।_x000D_ धान की फसल की कटाई 90 प्रतिशत परिपक्वता पर की जाय।
स्रोत:- कृषि विभाग, उत्तर प्रदेश_x000D_ यदि आपको दी गई जानकारी उपयोगी लगे, तो लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
15
0
संबंधित लेख