अब बिना फ्रिज सात दिन तक तरोताजा रहेंगे फल और सब्जियां!
नई खेती नया किसानAgrostar
अब बिना फ्रिज सात दिन तक तरोताजा रहेंगे फल और सब्जियां!
👉नमस्कार किसान भाइयों आज आप लोगों को एक रोचक जानकारी लेकर आया हूँ मिट्टी और घास के मिश्रण से तैयार किए गए बर्तनों में नेचुरल प्रिजर्वेटिव होते हैं, जो फलों और सब्जियों को तरोताजा रखने में मदद करते हैं। यही इस तकनीक का वैज्ञानिक पहलू है।मिट्टी के बने बर्तन में फल-सब्जियां रखने की विधि समझाते डॉ. अत्री। मिट्टी व घास के मिश्रण से निर्मित पात्र में तरोताजा निकली भिंडी। 👉अब फ्रिज के बिना भी फलों और सब्जियों को हफ्ते तक तरोताजा रखा जा सकेगा। सिरमौर के सरकारी स्कूल के बच्चों ने अपने शिक्षक के साथ मिलकर इस तकनीक को विकसित किया है। इस पर न तो किसी तरह का कोई खर्च आएगा और न ही यह विधि जटिल है। मिट्टी और घास पर आधारित इस तकनीक का ट्रायल सफल रहा है। अब मिड-डे मील में इसका इस्तेमाल किया जाएगा। 👉क्या है तकनीक:- दरअसल मिट्टी और घास में प्राकृतिक परिरक्षक विद्यमान होते हैं। मिट्टी वातानुकूलित (एयर कंडिशनर) का कार्य करती है। जबकि, घास नमी को बरकरार रखने में मदद करता है। मिट्टी और घास के मिश्रण से तैयार किए गए बर्तनों में नेचुरल प्रिजर्वेटिव होते हैं, जो फलों और सब्जियों को तरोताजा रखने में मदद करते हैं। यही इस तकनीक का वैज्ञानिक पहलू है। 👉टमाटर, भिंडी और अंगूर पर किया प्रयोग सफल:- ईको क्लब के साथ मिलकर उन्होंने मिट्टी के गुणों पर आधारित यह नेचुरल प्रिजर्वेटर बनाए हैं। इनके अच्छे परिणाम भी सामने आए हैं। सबसे पहले इन पात्रों में ऐसे फलों व सब्जियों को प्रयोग के लिए चुना गया, जिनमें पानी की अधिकता होती है। हरे टमाटर, भिंडी, अंगूर को पांच से सात दिन तक इन पात्रों में रखा गया और ढक्कन खोलने पर ये सब उसी अवस्था में पाए गए। स्रोत:-Agrostar 👉किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
12
1
अन्य लेख