AgroStar
आलू में पिछेती झुलसा रोग के लक्षण एवं बचाव!
एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस
आलू में पिछेती झुलसा रोग के लक्षण एवं बचाव!
👉🏻यह आलू में फफूंद से लगने वाली एक भयानक बीमारी है। इस बीमारी का प्रकोप आलू की पत्ती, तने तथा कन्दों, सभी भागों पर होता है। जैसे ही मौसम बदली युक्त हो और तापमिम 10-20 डिग्री सेंटीग्रेड के मध्य तथा आपेक्षित आर्द्रता 80 प्रतिशत हो, तो इस बीमारी की संभावना बढ़ जाती है। अतः तुरन्त ही सिंचाई बन्द कर दें। यदि आवश्यक हो तो बहुत हल्की सिंचाई ही करें तथा लक्षण दिखाई देने पर कूपर 1 (कॉपर ऑक्सी क्लोराइड 50% डब्ल्यू पी) @ 1 किग्रा० प्रति एकड़ 300 लीटर पानी में मिलाकर फसल पर छिड़काव करें या रोजतम (अज़ाक्सीस्ट्रॉबिन 11% + टेबुकोनाज़ोल 18.3% एससी ) @ 500 मिली० प्रति एकड़ 200 लीटर पानी में मिलाकर फसल पर छिड़काव करें। स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, 👉🏻किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
4
1
अन्य लेख