agrostar logo
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
कृषि और इसके लाभों में हाइड्रोजेल का उपयोग
जैविक खेतीकृषि जीवन
कृषि और इसके लाभों में हाइड्रोजेल का उपयोग
बदलते परिवेश के कारण विभिन्न क्षेत्रों में वर्षा अनियमित है। दो बारिश के बीच की अवधि भी बढ़ जाती है। वर्षा की कमी के कारण सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी उपलब्ध है। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान द्वारा विकसित हाइड्रोजेल अनियमित वर्षा के कारण फसल के नुकसान को रोकने के लिए एक वरदान साबित होगा। हाइड्रोजेल क्या है? हाइड्रोजेल एक मिश्रित क्रॉस-लिंक पदार्थ है जो परमाणुओं से बना होता है। हाइड्रोजेल एक सफेद अनाज जैसा पदार्थ है जिसे रासायनिक प्रक्रिया से बनाया जाता है। पानी के संपर्क में आने के बाद, इसे एक जेल में बदल दिया जाता है और इसके वजन से 350-500 गुना पानी को सोख कर पौधे की जड़ से चिपक जाता है और आवश्यकतानुसार फसल को नम कर देता है। हाइड्रोजेल के साथ मिट्टी की उर्वरता का कोई दुष्प्रभाव नहीं है। लाभ: • बीज तेजी से बढ़ने में मदद करता है। • अधिक समय तक भंडारण के लिए फसल को नमी प्रदान करता है। • पानी और पोषक तत्वों को 40-60% तक बचाएं। • पौधों को कवक और अन्य बीमारियों से बचाता है। • लागत को कम करता है। • जड़ों के विकास में मदद करता है।
उपयोग की विधि: • मिट्टी में बुवाई के समय 1 से 1.5 किलोग्राम / एकड़ हाइड्रोजेल बीज देने की सिफारिश की जाती है। रेत अधिक होने पर 2.5 किग्रा / एकड़ की सिफारिश की जाती है। • बीज को मिलाएं और उन्हें सीधे मिट्टी में दें। परिणाम के लिए 1 किलो हाइड्रोजेल और 10 किलो मिट्टी मिलाएं और बीज के साथ बोएं। स्रोत: कृषि जीवन इस उपयोगी जानकारी उपयोगी लगी तो लाईक करना न भूले ! और अन्य किसान मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें।
641
7
अन्य लेख