मध्य प्रदेश के किसानों के लिए खुशखबर!
गुरु ज्ञानAgrostar
मध्य प्रदेश के किसानों के लिए खुशखबर!
👉रबी फसलों की तैयारी से पहले मौसम विभाग के द्वारा मध्य प्रदेश के किसान भाइयों को सलाह दी गई है कि वह अगले 5 दिनों में रबी फसलों की बुवाई शुरू दें, ताकि समय रहते फसल से अच्छा उत्पादन प्राप्त हो सके। गेहूँ: - इस समय तापमान को ध्यान रखते हुए खेत में गेहूँ की उन्नत किस्मों को लगाएं. सिंचित स्थिति के लिए अनुशंसित किस्में एम.पी. 1203, एम.पी. 3382, जीडब्ल्यू 322, जीडब्ल्यू 366, एच.आई. 1544, एच.आई. 8759, एमपीओ 1215। ◉प्रतिबंधित सिंचाई की स्थिति के लिए अनुशंसित किस्में एम.पी. 3288, एम.पी. 3173, एम.पी.1202. ◉असिंचित स्थिति के लिए अनुशंसित किस्में J.W.S. – 17, म.प्र. 3020, HI 8627 ◉देर से बोई जाने वाली स्थिति के लिए अनुशंसित किस्में Lok 1, JW 4010, M.P. 1202 सरसों:- मौसम विभाग के अनुसार तापमान को ध्यान में रखते हुए किसानों को सरसों की फसल की बुवाई पूरी करने की सलाह दी जाती है. इसके अलावा अगले पांच दिनों के दौरान मौसम की स्थिति को देखते हुए किसानों को सिंचाई करने की सलाह दी गई है. यदि सरसों की फसल में पर्याप्त नमी उपलब्ध हो तो नाइट्रोजन का प्रसारण करें और साथ ही इसमें जरूरत के मुताबिक खाद भी दी जानी चाहिए. चना:- यह समय चने की बुवाई के लिए अनुकूल होता है. इसलिए किसानों को अधिक लाभ के लिए अभी चना बोने की सलाह भी दी जाती है। ◉चना जेजी की अनुशंसित किस्में: 12, जेजी. 14, जेजी. 218, विजय, जेजी. 322, JG.11, JG. 130,B G D 72, Zaki -9218, RVG-201, RVG-202, RVG-203 निम्न लोकप्रिय किस्में हैं। कपास:- कपास के खेतों में चूसक कीट का संक्रमण देखा गया है. इसलिए किसानों को फसल में इमडाक्लोरोप्रिड 0.5 मिली या इमडाक्लोरोप्रिड + एसिफाइड 1 ग्राम/लीटर पानी का मिश्रण कर छिड़काव करने की सलाह दी जाती है। गन्ना:- किसान इस समय शरदकालीन गन्ने की बुवाई की तैयारी करें। गन्ने की फसल में लाल सड़न रोग के नियंत्रण के लिए कार्बेन्डाजिम 1 ग्राम /लीटर पानी का छिड़काव करें और साथ ही · गन्ने में किसी भी स्तर पर प्रभावी छिड़काव के लिए ऑर्चर्ड स्प्रेयर का उपयोग करें। उद्यानिकी फसलें:- किसानों को सलाह दी जाती है कि वे जल्दी बोई जाने वाली हरी सब्जियों जैसे- लाल, मेथी, पालक, सरसों, धनिया और शलजम का चयन करें. इसके अलावा जो सब्जियां पिछले महीने में रोपी गई हैं उन्हें इस समय नाइट्रोजन युक्त उर्वरक दिया जाना चाहिए। 👉स्त्रोत:-Agrostar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद।
24
5
अन्य लेख