पशुओं का चारा !
पशुपालनAgrostar
पशुओं का चारा !
👉हमारे देश के कुछ राज्यों में बहुत अधिक ठंड या बहुत अधिक गर्मी के कारण हरा चारा उपलब्ध नहीं हो पता है। ऐसे में पशुओं को साईलेज खिलाना एक बेहतर विकल्प है। 👉साईलेज क्या है? ◆साईलेज हरे चारे को ताजे यानी रसीले अवस्था में सुरक्षित रखा जाने वाला पशु आहार है। चारे वाली फसलों में मौजूद शुगर की मात्रा लैक्टिक एसिड में बदल जाती है, जो इसे लम्बे समय तक सुरक्षित रखने में सहायक है। 👉किन फसलों का करें प्रयोग से बनता है? ◆साईलेज बनाने के लिए मक्का, शोरगम, जौ, बाजरा, नेपियर घास, आदि फसलों का इस्तेमाल कर सकते हैं। 👉कैसे तैयार करें? ◆ मक्का, जौ, आदि हरे चारे को 1 से 2 इंच के आकार में काटें। इसमें 65 से 70 प्रतिशत तक नमी की मात्रा होनी चाहिए। ◆इसके बाद 50 वर्ग फीट (स्क्वायर मीटर) का गड्ढा तैयार करें। ◆गड्ढे की दीवारों एवं सतह को अच्छी तरह गोबर से पुताई करें। ◆इसमें 500 से 600 किलोग्राम कटा हुआ हरा चारा, 25 किलोग्राम शीरा, 1.5 किलोग्राम यूरिया को परत के अनुसार लगाते हुए भरें। ◆गड्ढे में हवा एवं पानी न जा पाए इसके लिए इसे ऊपर घास से अच्छी तरह दबाएं। ◆इस मिश्रण को कम से कम 45 दिनों तक रहने दें। ◆इसके बाद साईलेज तैयार हो जाएगा। 👉स्रोत:- Agrostar, किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
4
0
अन्य लेख