केंद्र सरकार देगी 10 लाख रुपये की सब्सिडी!
योजना और सब्सिडीAgrostar
केंद्र सरकार देगी 10 लाख रुपये की सब्सिडी!
👉नमस्कार किसान भाइयों स्वागत है आप सभी का एग्रोस्टार के कृषि लेख में ,खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री पशुपति कुमार पारस ने बताया कि अब तक इस योजना से खाद्य प्रसंस्करण गतिविधियों में लगे लगभग 62 हजार लोग लाभान्वित हो चुके हैं. लगभग 60 फीसदी पात्र लाभार्थी प्राथमिक कृषि उपज में लगे हुए हैं. 👉केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री पशुपति कुमार पारस ने कहा कि उनके मंत्रालय ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना की शुरुआज की है. इसके तहत अधिकतम 10 लाख रुपये की सब्सिडी सीमा के साथ माइक्रो फूड प्रोसेसिंग यूनिट की स्थापना के लिए 35 फीसदी क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी और अधिकतम 3 करोड़ रुपये की सब्सिडी कॉमन इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए दी जा रही है. 👉इस योजना का मकसद देश में सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यमों की तरक्की के लिए वित्तीय, तकनीकी और व्यावसायिक सहायता प्रदान करना है. यो इनमें से, लगभग 60 फीसदी पात्र लाभार्थी प्राथमिक कृषि उपज में लगे हुए हैं और बैंकों द्वारा वसूल की जाने वाली ब्याज दर पर 3 फीसदी अतिरिक्त ब्याज सबवेंशन प्राप्त कर रहे हैं. 👉दूसरी योजनाओं के साथ एआईएफ का इंटीग्रेशन:- केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री पशुपति कुमार पारस एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड स्कीम प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्यम उन्नयन योजना और प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना के बीच मॉड्यूल की शुरुआत कर रहे थे. तोमर ने कहा है कि एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड में राज्य या केंद्र सरकार की किसी भी अन्य योजना के साथ कन्वर्जेंस की सुविधा दी गई है. 👉एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड का काम क्या है? तोमर ने बताया कि राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड की वाणिज्यिक बागवानी विकास व शीतागार विकास योजनाओं के लिए एआईएफ का पहले ही किया जा चुका है. इसके तहत एक लाख करोड़ रुपये के फंड से वर्ष 2032-33 तक ब्याज छूट व क्रेडिट गारंटी सहायता दी जाएगी. 👉अब सब्सिडी लेना आसान:- तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री का कहना रहा है कि सभी मंत्रालय एक-दूसरे के साथ मिलकर काम करें और एकांगी नहीं सोचें, ताकि लोगों को विभिन्न योजनाओं का लाभ मिल सके. प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्यम उन्नयन योजना (PMFME) के तहत पात्र एआईएफ लाभार्थी आवेदन करके सब्सिडी का लाभ प्राप्त कर सकते हैं. तीन फीसदी इंटरेस्ट सबवेंशन प्राप्त करने की प्रक्रिया बहुत सरल बना दी गई है, जिसमें लाभार्थी पहले से मंजूर डीपीआर के तहत स्वीकृति पत्र का उपयोग कर पोर्टल पर आवेदन कर सकते हैं. 👉स्त्रोत:-Agrostar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
18
1
अन्य लेख