AgroStar
किसानों के लिए अच्छी खबर, अब फसल बर्बादी का ऐसे मिलेगा फास्‍ट क्‍लेम!
कृषि वार्ताजी बिजनेस
किसानों के लिए अच्छी खबर, अब फसल बर्बादी का ऐसे मिलेगा फास्‍ट क्‍लेम!
👉किसानों को PM फसल बीमा योजना का फायदा जल्‍द मिल सकेगा। इसका कारण एग्रीकल्चर मिनिस्‍ट्री की एक पहल है। दरअसल, कृषि मंत्रालय ने नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) के तहत 100 जिलों में ग्राम पंचायत स्तर पर फसल उपज का आकलन करने के लिए ड्रोन से धान खेतों की तस्वीर लेने की इजाजत मांगी है। यह इजाजत चुनी हुई एजेंसियों के ड्रोन उड़ाने के लिए मांगी गई है। 👉प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना:- यह दूसरा साल है जब मंत्रालय ने PMFBY के तहत ग्राम पंचायत स्तर का फसल ऊपज का आकलन करने के लिए 100 जिलों के कृषि क्षेत्रों में मानव रहित हवाई वाहन (UAV) आधारित सुदूर संवेदी आंकड़ा संग्रह के एक अध्‍ययन के लिए निजी एजेंसियों को काम पर रखा है। 👉DGCA से इजाजत मांगी:- अधिकारी के मुताबिक चूंकि चयनित 100 चावल उगाने वाले जिलों में कटाई का काम जोरों पर है और फसल के मौसम के मुताबिक जल्द ही यह काम पूरा हो जाएगा, हमने नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) से आग्रह किया है कि वे चयनित क्षेत्रों के लिए ड्रोन उड़ाने की मंजूरी दें। 👉PMFBY में ऐसे होगा रजिस्‍ट्रेशन:- कोई भी किसान जो PM FBY के तहत रजिस्‍टर्ड होना चाहता है, उसे अपने नजदीकी बैंक, प्राथमिक कृषि साख समिति, कॉमन सर्विस सेंटर (CSC), ग्राम स्तर के उद्यमियों (VLY), कृषि विभाग के दफ्तर या बीमा कंपनी के प्रतिनिधि से संपर्क करना होगा। किसान राष्ट्रीय फसल बीमा पोर्टल (NCIP) या फसल बीमा ऐप से भी रजिस्‍ट्रेशन करा सकते हैं। 👉ये पेपर लगेंगे:- किसानों को रजिस्‍ट्रेशन पूरा करने के लिए आधार (Aadhaar) संख्या, बैंक पासबुक, भूमि रिकॉर्ड/किरायेदारी समझौते और स्व-घोषणा प्रमाण पत्र (Self declaration letter) पास देना होगा। इसके बाद किसानों को उनके मोबाइल नंबरों पर SMS से उनके आवेदन की स्थिति बताई जाएगी। 👉31 दिसंबर तक उड़ा सकेंगे ड्रोन:- उन्होंने कहा कि इस संबंध में DGCA को एक पत्र लिखा गया है, जिसमें AMNEX, AGROTECH, RMSI प्राइवेट लिमिटेड और Weather रिस्क मैनेजमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड जैसी एजेंसियों को दो महीने के लिए यानी 31 दिसंबर तक ड्रोन उड़ाने की इजाजत मांगी गई है। 👉वेरिफिकेशन के लिए जरूरी:- ड्रोन आधारित तस्वीरें फसल की उपज के आकलन और वेरिफिकेशन के लिए जरूरी हैं। चुनी गई एजेंसियों ने टाइमलाइन के मुताबिक अपने निर्धारित क्षेत्रों में स्‍टडी शुरू कर दिया है। 👉🏻 खेती तथा खेती सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए कृषि ज्ञान को फॉलो करें। फॉलो करने के लिए अभी ulink://android.agrostar.in/publicProfile?userId=558020 क्लिक करें। स्रोत-जी बिजनेस, प्रिय किसान भाइयों यदि आपको दी गयी जानकारी उपयोगी लगी तो इसे लाइक👍करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ जरूर शेयर करें धन्यवाद।
3
1
अन्य लेख