कड़कनाथ मुर्गी पालन के लिए सरकार दे रही है सहायता!
नई खेती नया किसानAgrostar
कड़कनाथ मुर्गी पालन के लिए सरकार दे रही है सहायता!
👉मध्य प्रदेश सरकार कड़कनाथ मुर्गे की बढ़ती माँग को मद्देनजर रखते हुए, जनजातीय महिलाओं को कड़कनाथ पालन इकाई की स्थापना के लिए सहायता दे रही है। जिसका पहला चरण पूर्ण हो चुका है एवं दूसरा चरण शुरू किया जा रहा है। 👉मध्यप्रदेश सरकार कड़कनाथ मुर्गी पालन के लिए हितग्राहियों को लगभग एक लाख रूपये की लागत से शेड, बर्तन, दाना, 100 चूजे और तकनीकी ज्ञान उपलब्ध करा रही है। ये 28 दिन के चूजे टीकाकरण के बाद हितग्राहियों को दिये जा रहे हैं। इससे इनकी मृत्यु दर न के बराबर होती है और हितग्राही को नुकसान कम होता है। अगर हितग्राही कड़कनाथ बेचने में समर्थ नहीं है, तो पशुपालन विभाग द्वारा इन अंडे, मुर्गे आदि इनसे खरीद भी लेता है। जिससे हितग्राही को किसी भी प्रकार का नुक़सान नहीं होता है। 👉कड़कनाथ कुक्कुट पालन योजना के तहत सतना जिले के उचेहरा विकासखंड के जनजातीय बाहुल्य ग्राम गोबरांव कला, पिथौराबाद, धनेह, जिगनहट, बांधी, मौहार और नरहटी में जनजातीय महिलाओं के लिये 30 कड़कनाथ कुक्कुट इकाइयाँ स्थापित की गई हैं। इन्हें पहले चरण में 40-40 कड़कनाथ चूजे और उच्च गुणवत्ता युक्त 58 किलोग्राम कुक्कुट आहार दिया गया है। 👉क्या है कड़कनाथ मुर्गे की ख़ासियत कड़कनाथ मुर्गे की त्वचा, पंख, माँस, खून सभी काला होता है। सफेद चिकन के मुकाबले इसमें कॉलेस्ट्रोल का स्तर काफी कम होता है, फेट की मात्रा कम होने से हृदय और मधुमेह के रोगियों के लिये बहुत फायदेमंद माना जाता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता के साथ कम वसा, प्रोटीन से भरपूर, हृदय-श्वास और एनीमिक रोगी के लिए लाभकारी है। अन्य मुर्गे और उनके अंडों की तुलना में यह काफी मँहगा होता है। इसका एक अंडा लगभग 30 रूपये और मुर्गा 900 से 1100 रूपये प्रति किलो में मिलता है। जबकि मुर्गी की कीमत इससे भी तीन गुना होती है। 👉स्त्रोत:-Agrostar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवा।
36
13
अन्य लेख