नई खेती नया किसानTV9
स्पाइरुलीना-जानिए कैसे होती है इसकी खेती?
👉स्पाइरुलीना औषधीय गुणों से भरपूर होता है और इसका उत्पादन बड़े-बड़े लोग करते हैं क्योंकि इससे जबरदस्त कमाई होती है. यह काफी मंहगा बिकता है. बता दें की जब से पतंजलि ने स्पाइरुलीना को गोलियां निकाली तब से देश से बड़े बड़े व्यापारी भी इसकी खेती में आ गये. गौरतलब है कि पतंजलि खुद ही इसकी गोलियां तैयार करता है और इसे बेचता है. स्पाइरुलीना के उत्पाक अगर चाहे तो खुद भी गोलियां बनाकर अपने कंपनी या फर्म का लोगों लगाकर उसे बेच सकते हैं. इससे उन्हें और ज्यादा कमाई होगी! स्पाइरुलीना की खेती के लिए जरूरी बातें- 👉स्पाइरुलीना की खेती के लिए जिस क्षेत्र में हम इसकी खेती कर रहे हैं उस क्षेत्र का तापमान 15 डिग्री सेल्सियस से लेकर 45 डिग्री तापमान होना चाहिए. पर 15 डिग्री सेल्सियस से नीचे नहीं होना चाहिए. इसके साथ ही पानी का पीएच 9 से अधिक होना चाहिए. पर जो इलाके समुद्री क्षेत्र से दूर हैं तो मीना पानी का पीएच बढ़ाने किए सोडियम क्लोराइड, खाने का सोडा और नमक डाल सकते हैं! स्पाइरुलीना को उगाने का तरीका- 👉अगर आप स्पाइरुलीना की खेती करना चाहते हैं तो इसके लिए आप टैंक बना सकते हैं या फिर अगर सस्ते में काम करना चाहते हैं नाली खोदकर उसमे प्लास्टिक बिछा लेना है. उसके अंदर पहले पानी डालना है. जिस पानी को डाल रहे हैं उसका पीएच लेवल नौ होना चाहिए. इसके बाद मदर स्पाइरुलीना लेकर आये और उसे कपड़े एक कपड़े में डाल पूरे क्षेत्र में घुमा देना हैं जितने क्षेत्र में इसकी खेती कर रहे हैं. नाली बनाते हुए इस बाद का ध्यान रखना चाहिए कि नाली जितनी चौड़ी होगी उसकी लंबाई उससे दोगुनी होनी चाहिए. इसके बाद इस पानी को हिलाते रहना है. अगर हाथ से यह संभव नहीं है तो छोटे मोटर लगाकर पंखा लगा दे ताकि पानी हल्के हल्के हिलते रहे. इससे स्पाइरुलीना पूरे पानी में फैलेगा और जल्दी तैयार होगा! स्पाइरुलीना की हार्वेस्टिंग कब और कैसे करें- 👉एक बार स्पाइरुलीना लगाने के बाद रोज इसे निकाल सकते हैं, पर 10 से 15 दिनों के अंदर इसे निकालना चाहिए. इसे निकालने के लिए मग से उस पानी को निकाले, जो पूरी तरह हरा दिखाई देगा. उस पानी को आटा छानने वाली छलनी में इसे डालना होता है. ताकि पत्ते या अन्य चीजे साफ हो जाएं. ठीक इसके नीचे एक पतला कपड़ा इस तरह रखना है कि छलनी के बाद पानी उसके उपर गिरे. इससे यह होगा की पानी नीचे चला जाएगा और स्पाइरुलीना कपड़े में रह जाएगा. इसके बाद इसे साफ पानी से धो लें. इसके बाद आप इसे खा सकते हैं या जमा करके रख सकते हैं! स्पाइरुलीना की गोली बनाने का तरीका- 👉स्पाइरुलीना को बंद कमरे में रखें, जहां हवा भी नहीं जाती हो. उस कमरे में इसे सूखने तक रखें. इसके बाद उसे हाथ से बेल कर पतले पेन जैसा आकार में बना दे. इसके बाद इसे टुकड़े में बांट दे. इसे 500 एमजी की टैबलेट बना सकते हैं! एक एकड़ में होगी इतनी कमाई- 👉स्पाइरुलीना का उत्पादन एक स्क्वायर मीटर में औसत आठ ग्राम प्रतिदिन होता है. इस लिहाज से एक एकड़ में प्रतिदिन 32 किलो का उत्पादन होगा. यह औसत 800 रुपए प्रति किलो बिकता है. इस हिसाब से एक दिन में 25900 रुपए आते हैं. एक महीने में यह सात लाख रुपए प्रति माह से अधिक होती है. भारत सरकार के एमएसएमइ मंत्रालय के अंतर्गत इसका प्रशिक्षण दिया जाता है! स्त्रोत:- TV9 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
11
2
अन्य लेख