क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
गुरु ज्ञानएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
सरसों में लाही (एफिड्स) के संक्रमण से बचाव
सरसों में लाही (एफिड्स) का संक्रमण मुख्य रूप से नवंबर-दिसंबर में शुरू होता है I जिसके कारण सरसों के पौधे की पतियाँ पीली पड़ने लगती हैं और गिर जाती हैं I जबकि फूल, फली और नाजुक शाखा सूख जाती है I लाही (एफिड्स) से स्राव के कारण सरसों का पौधा काला पड़ने लगता है और उसकी प्रकाशसंस्लेष्ण की प्रक्रिया में बाधा आने लगती है I नतीजतन सरसों के उत्पादन और गुणवत्ता दोनों में कमी आती है साथ ही सरसों के दाने में तेल की मात्रा घट जाती है I
इस प्रकार करें एकीकृत प्रबंधन - सलाहनुसार नाइट्रोजेन्स उर्वरक का छिडकाव करें और सिंचाई करें I - किसान अपने खेत में पिला स्टीकर वाला जाल लगायें I - पौधे पर कीट की प्राथमिक अवस्था में शाम के समय नीम आधारित कीटनाशक प्रति 10 लीटर पानी में 10 मिली (1% EC) से लेकर 40 मिली (0.15 % EC) या वर्टिसिलियम लेकानी फंगस आधारित पावडर का छिडकाव करें I - यदि लाही (एफिड्स) का संक्रमण बढने लगे तो इमिडाक्लोप्रिड 70 WG @ 2 ग्राम थायोमिथाक्जोम 25 WG @ 4 ग्राम या सायपरमेथरिन 40 % अधिक प्रोफेनोपोस 4% EC @ 10 मिली या एसीफेट 75 WP @ 10 ग्राम या इमिडाक्लोप्रिड 17.8 SL @ 5 मिली प्रति 10 लीटर पानी में छिडकाव करें - सुबह के समय पौधे के फूल पर मधुमक्खियां बैठती हैं इसलिए कीटनाशक का छिडकाव शाम के समय करना चाहिए I - यदि क्षेत्र में परभक्षियो और परजीवीयो की संख्या अधिक है तो कीटनाशक के छिडकाव से बचे डॉ. टी.एम. भरपोडा, _x000D_ एंटोमोलॉजी के पूर्व प्रोफेसर,_x000D_ बी ए कालेज ऑफ एग्रीकल्चर, आनंद कृषि विश्वविद्यालय, आनंद- 388 110 (गुजरात भारत)
124
1
संबंधित लेख