क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
सरसों के लिए खेत का चुनाव और तैयारी
सरसों के लिए दोमट व हल्की दोमट मिट्टी उपयुक्त होती है। अच्छे जल निकास वाली मिट्टी जो लवणीय एवं क्षारीय न हो ठीक रहती है। इसको हल्की उसर भूमि में भी बोया जा सकता है। बहुत रेतीली एवं नमी की समस्या वाली भूमि में सरसों के स्थान पर तारामीरा लेना अधिक उपयुक्त पाया गया है। सरसों की खेती बारानी एवं सिंचित दोनों ही प्रकार से की जाती है। बारानी खेती के लिए खेत को खरीफ में खाली छोड़ना चाहिए। पहली जुताई वर्षा ऋतु में मिट्टी पलटने वाले हल से करें। समय-समय पर खेत की स्थिति के अनुसार 4-6 जुताई करें। सिंचित खेती के लिए भूमि की तैयारी बुवाई के 3 से 4 सप्ताह पूर्व प्रारंभ करें।
जहां मिट्टी क्षारीय व क्षारीय लवणीय हो अथवा कुए का पानी क्षारीय हो वहां बारीक पिसा हुआ जिप्सम मई माह में खेत में डालकर जुताई करें और अच्छी तरह मिलाकर खेत में डोलियाँ बना दे ताकि वर्षा का पानी भर सके और लवण नीचे जा सके। इसके बाद अक्टूबर माह में पहले पखवाड़े में खेत को तैयार करके सरसों की बुवाई कर दें। जिप्सम का हर तीसरे वर्ष में उपयोग करें।
414
0
संबंधित लेख