AgroStar
सब्सिडी पर पैडी ट्रांसप्लांटर लेने के लिए करें आवेदन!
कृषि वार्ताAgrostar
सब्सिडी पर पैडी ट्रांसप्लांटर लेने के लिए करें आवेदन!
◾कृषि क्षेत्र को आधुनिक बनाने के लिए सरकार द्वारा कृषि यंत्र अनुदान पर दिए जाते हैं, कृषि यंत्रों की मदद से किसान कम समय में अधिक कार्य कर सकते हैं जिससे उत्पादन में भी वृद्धि होती है। कृषि मजदूरों की कमी के समय कृषि यंत्र किसी वरदान से कम नहीं होते हैं। इसकी महत्ता को देखते हुए मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य के किसानों को धान की रोपाई के लिए पैडी (राइस) ट्रांसप्लांटर के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। राज्य के इच्छुक किसान इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। मध्य प्रदेश कृषि अभियांत्रिकी संचनालय ने पैडी ट्रांस्प्लांटर यंत्र को माँग के अनुसार श्रेणी में रखा है। जिसमें प्राप्त आवेदनों हेतु लॉटरी नहीं निकाली जाएगी तथा उपलब्ध बजट के आधार पर संचालनालय स्तर से आवेदनों को अनुमोदित किया जायेगा। अनुमोदित होने पर कृषक का आवेदन पोर्टल पर चयनित कृषकों की सूची में प्रदर्शित किया जायेगा। अनुमोदन की सूचना कृषक को एस.एम.एस. के माध्यम से दी जायेगी। ◾मध्य प्रदेश कृषि अभियांत्रिकी संचनालय ने पैडी ट्रांस्प्लांटर यंत्र को माँग के अनुसार श्रेणी में रखा है। जिसमें प्राप्त आवेदनों हेतु लॉटरी नहीं निकाली जाएगी तथा उपलब्ध बजट के आधार पर संचालनालय स्तर से आवेदनों को अनुमोदित किया जायेगा। अनुमोदित होने पर कृषक का आवेदन पोर्टल पर चयनित कृषकों की सूची में प्रदर्शित किया जायेगा। अनुमोदन की सूचना कृषक को एस.एम.एस. के माध्यम से दी जायेगी। ◾पैडी ट्रांसप्लांटर पर कितनी सब्सिडी दी जाएगी? मध्यप्रदेश में किसानों को अलग-अलग योजनाओं के तहत कृषि यंत्रों पर किसान वर्ग एवं श्रेणी के अनुसार अलग-अलग सब्सिडी दिए जाने का प्रावधान है, जो 40 से 50 प्रतिशत तक है। किसान जो कृषि यंत्र लेना चाहते हैं वह किसान पोर्टल पर उपलब्ध सब्सिडी कैलकुलेटर पर कृषि यंत्र की लागत के अनुसार उनको मिलने वाली सब्सिडी की जानकारी देख सकते हैं। ◾पैडी ट्रांसप्लांटर यंत्र से धान रोपाई की विधि नर्सरी तैयार करने की विधि बहुत ही सरल है सबसे पहले मेट टाईप नर्सरी तैयार करना होता है। पोलीथिन के ऊपर फ्रेम की सहायता से गीली मिट्टी डालकर बराबर मात्रा में अंकुरित धान को छिड़का जाता है इसके लिए प्रति एकड़ लगभग 7 से 8 किलो ग्राम धान के बीज की आवश्यकता होती है। नर्सरी 15 से 18 दिन में मशीन से रोपाई हेतु तैयार हो जाती है। मशीन रोपाई हेतु खेत की उथली मताई रोपा के 4 से 5 दिन पहले करनी होती है, 1 एकड़ धान की मशीन से रोपाई हेतु मात्र 2 से 3 घंटे का समय लगता है एवं मजदुर मात्र 3 से 4 की आवष्यकता होती है। जबकि परंपरागत विधि से धान रोपाई में 15 से 20 मजदूर लगते हैं एवं लागत भी ज्यादा होती है। ◾किसानों को देना होगा 5 हजार रुपए का डिमांड ड्राफ्ट (डीडी)- कृषि यंत्रों के आवेदन में ऐसा देखा गया है कि किसान का सूची में नाम आ जाने के बावजूद भी कृषि यंत्र की खरीदी नहीं करते हैं | इसको देखते हुए किसान से 5000 रूपये का डिमांड ड्राफ्ट जिले के सहायक कृषि यंत्री के नाम से बनवाना होगा, आवेदन के समय उसकी स्कैन प्रति किसानों को ऑनलाइन अपलोड करनी होगी। ◾अनुदान पर पैडी ट्रांसप्लांटर यंत्र लेने के लिए आवेदन कहाँ करें ? राज्य में किसानों को पहले माँग के अनुसार कृषि यंत्रों के लिए आवेदन ऑफ़लाइन करना होता था, परंतु अब प्रक्रिया में बदलाव कर दिया गया है। अब माँग के अनुसार श्रेणी के कृषि यंत्र के लिए भी किसानों ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदनों में डीलर चयन तथा आगे की समस्त प्रक्रियाएं तथा समयावधि, लॉटरी उपरांत चयनित कृषकों की प्रक्रिया के सामान ही रहेगी। ◾किसान भाई ऑनलाइन e-कृषि यंत्र अनुदान पोर्टल पर कर सकते हैं परन्तु सभी किसान भाइयों को यह बात ध्यान में रखना होगा की आवेदन के समय उनके पंजीकृत मोबाइल नम्बर पर OTP वन टाइम पासवर्ड प्राप्त होगा| इसलिए किसान अपना मोबाइल अपने पास रखें | किसान https://dbt.mpdage.org/ पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। स्त्रोत:- Agrostar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
6
0
अन्य लेख