मजेदारNews 18
वो फल, जो खाने के काम भी आये और कपड़ा धोने के भी!
👉🏻बेल देश के सबसे प्राचीन पेड़ों और फलों में शुमार किया जाता है. जिसका इस्तेमाल खाने में तो होता ही है, औषधियों में भी इसका खूब इस्तेमाल होता है. इसके सेवन को स्वास्थ्य के लिए बहुत बेहतर बताया गया है. लेकिन बेल का कई इस्तेमाल ऐसा भी है जो हैरान करने वाला है। 👉🏻बेल का इस्तेमाल खाने से लेकर लीकेज, कपड़ा धोने और पेंटिंग्स के संरक्षण में भी होता है. सबसे बड़ी बात ये है आयुर्वेद में बेल के पेड़ को सबसे ज्यादा रोगों को नष्ट करने वाला पेड़ भी माना गया है। 👉🏻जब भारत में डिटर्जेंट और कपड़ा धोने के साबुन नहीं होते थे, तो रीठे से लेकर कई चीजों का इस्तेमाल कपड़ों को साफ करने में होता है. जो कपड़ों को साफ ही नहीं करते थे बल्कि चमका भी देते थे. आगे हम बताएंगे कि इनसे कैसे कपड़ों को डिटर्जेंट की तरह धोया और चमकाया जाता है। 👉🏻बेल को बिल्व, बेल या बेलपत्थर भी कहा जाता है. बेल के पेड़ भारत में लगभग हर जगह पाए जाते हैं. इसे मंदिरों के पास खूब देखा जा सकता है, क्योंकि पूजा पाठ में भी इसका खासा इस्तेमाल होता है. बेल के पेड़ प्राकृतिक रूप से भारत के अलावा दक्षिणी नेपाल, श्रीलंका, म्यांमार, पाकिस्तान, बांग्लादेश, वियतनाम, लाओस, कंबोडिया एवं थाईलैंड में उगते हैं. इनकी खेती भी की जाती है। 👉🏻बेल के फल को पुरानी पेचिश, दस्तों और बवासीर में फायदेमंद मानते हैं. इससे आंतों की क्षमता बढ़ती है. पेट को ठंडा रखता है. भूख को बढ़ाता है। कैसे करता कपड़ों को साफ:- 👉🏻बेल फल का गूदा केवल खाने या खाद्य पदार्थों के तौर पर ही इस्तेमाल नहीं होता बल्कि डिटर्जेंट का भी काम करता है. इसे लेकर जब कपड़ों पर रगड़ते हैं तो कपड़े की गंदगी दूर हो जाती है और इसमें चमक भी आ जाती है। 👉🏻ये है बेल के फल का अंदर का गूदा, जो खाद्य सामग्री के तौर पर तो इस्तेमाल होता ही है, पहले के समय में इसका उपयोग डिटर्जेंट के तौर पर भी होता था. लीकेज में कैसे काम आता है:- 👉🏻ये लीकेज को रोकने में भी बहुत काम आता है. जब इसे चूने के प्लास्टर के साथ मिलाया जाता है जो कि जलअवरोधक का काम करता है. कहीं अगर पानी की लीकेज हो रही हो और इसे लगा देते हैं तो ये पानी का टपकना बंद कर देता है. इसी वजह से इसे मकान की दीवारों में सीमेंट में जोड़ा जाता है। स्त्रोत:- News 18, 👉🏻प्रिय किसान भाइयों दी गई उपयोगी जानकारी को लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
8
4
अन्य लेख