नई खेती नया किसानTV9 Hindi
लाह उत्पादन में है कमाने का बेहतरीन मौका, जानें तरीका!
👉लाह उत्पादन भी कमाई का एक बेहतर विकल्प हो सकता है. खेती के अलावा इसे करने से किसानों की आय बढ़ान में यह लाभदायक होता है. इसमें ना ही पारपंरिक खेती की तरह मेहनत लगता है और ना ही लागत आती है. यह कम लागत में बेहतर मुनाफा देता. झारखंड में लाह उत्पादन की बेहतर संभावनाएं हैं इसलिए यहां के किसान लाह की खेती कर रहे हैं। 👉झारखंड के गुमला जिले के सुमन 2015 से लाह की खेती कर रहे हैं. पेशे से शिक्षक सुमन जब स्कूल जाते थे तो उन्होंने लाह की खेती को देखा और इसे करने के लिए प्रेरित हुए उसके बाद से उन्होंने लाह खेती की पूरी जानकारी हासिल की. यूट्यूब पर वीडियो देख कर लाह उत्पादन से लेकर प्रोसेसिंग तक की जानकारी हासिल की. इसके बाद लाह की खेती शुरु की। गांव के पेड़ों से की शुरुआत:- 👉सुमन बताते हैं कि उनके गांव में बेर और कुसुम के पेड़ हैं. यहां पर लाह की खेती अच्छे तरीके से हो सकती है पर गांव के किसानों में इसे लेकर जागरूकता की कमी है. कोई भी लाह की खेती नहीं करना चाहते हैं. इसलिए गांव के सभी कुसुम और बेर के पेड़ में उन्होंने लाह की खेती शुरु की. हालांकि हर बार पेड़ों की संख्या घटती बढ़ती रहती है. सुमन बताते हैं कि वो कुसुम के 19 पेड़ और बेर के 90 पेड़ में लाह उत्पादन करते हैं। इस बार ढाई लाख का हुआ मुनाफा:- 👉सुमन ने बताया कि लाह की खेती से कमाई भी अच्छी होती है. इस बार लाह की खेती से उन्हें इस बार ढाई लाख रुपए की कमाई हुई है. इसके साथ ही उन्होंने अपने द्वारा उपजाए गये ढाई क्विंटल लाह को फिर से बेर के पेड़ में लगाया है. क्योंकि बारिश के मौसम में कुसुम के पेड़ में लाह नहीं लगाया जाता है. उत्पादन की बात करें तो सुमन ने बताया कि इस बार कुल 11 क्विंटल का उत्पादन हुआ. कई पेड़ों से दो क्विंटल तक की पैदावार हुई। कैसे करें लाह की खेती:- 👉लाह की खेती के लिए आपके पास कुसुम या बेर के पेड़ होने चाहिए. इसे साल में दो बार पेड़ों पर लगाया जाता है. पहला जुलाई में बेर के पेड़ों पर लगाया जाता है. दूसरा जनवरी में कुसुम के पेड़ों पर लगाया जाता है. यह छह महीने में तैयार हो जाता है. लाह लगाने के बाद पहला स्प्रे 28 दिन, उसके 10 दिन बाद दूसरा स्प्रे देना चाहिए. फिर अंतिम स्प्रे 60 दिन में किया जाता है. कीटनाशक और कवकनाशक का छि़ड़काव करना चाहिए। 50 पेड़ से होगी इतनी कमाई:- 👉सुमन बताते हैं कि अगर कोई किसान 50 पेड़ों में लाह की खेती करता है तो अगर प्रत्येक पेड़ उसे 50 किलों लाह भी मिलेगा तो कुल उत्पादन 25 क्विंटल का होगा. बाजार में इसकी कीमत 300 से लेकर 500 रुपए किलो तक है. ऐसे में वह किसान सालाना लाख रुपए की कमाई अलग से कर सकता है. पर इसके लिए एक्टिव होकर काम करना पड़ेगा। स्रोत:- TV9 Hindi, 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। इस वीडियो में दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍🏻 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
10
1
अन्य लेख