नई खेती नया किसानTV9 Hindi
लाल भिंडी से मालामाल हुआ किसान, कई गुना ज्यादा मिल रही कीमत!
👉मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के किसान मिश्री लाल आजकल चर्चा का विषय बने हुए हैं. लाल भिंडी की खेती करके उन्होंने सबको चौंका दिया है. दूर-दूर से लोग उनके बगीचे में जाकर लाल भिंडी की खेती के बारे में जानकारी ले रहे हैं. दरअसल किसानों में ज्यादा कौतूहल इसलिए भी है क्योंकि इस भिंडी की कीमत बाजार में 300 से 400 रुपए प्रति 250 ग्राम/500 ग्राम मिल रही है, मतलब कीमत सामान्य भिंडी से कई गुना ज्यादा। बनारस से ली ट्रेनिंग, अब किसानों के लिए बने नजीर:- 👉खजूरी कलां के रहने वाले किसान मिश्रीलाल राजपूत ने बताया कि वे एक बार ट्रेनिंग के लिए बनारस के इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ वेजिटेबल रिसर्च सेंटर गये थे, वहीं उन्हें लाल भिंडी के बारे में जानकारी मिली. वहां से उन्होंने इसकी खेती का सही तरीका जाना है लौटकर इसकी खेती शुरू कर दी। 👉वे बताते हैं कि बाजार में इस भिंडी की कीमत सामान्य भिंडी की अपेक्षा 5 से 7 गुना ज्यादा मिलती है. मॉल में तो लोग इसे 300-400 रुपए प्रति 250/500 ग्राम तक में खरीदने को तैयार हैं. वे कहते हैं कि इसका स्वाद भी अच्छा है जिस कारण लोग इसे पसंद कर रहे हैं। बगीचे में शुरू की खेती, बीज के लिए खर्च किया 2400 रुपए:- 👉किसान मिश्रीलाल कहते हैं कि बनारस से लौटने के बाद उन्होंने अपने बगीचे में भिंडी की खेती करने की सोची. इसके लिए बनारस से ही 2400 रुपए में लाल भिंडी का बीज लेकर आए थे. जब फसल पकने लगी तक किसान उनके बगीचे आने लगे और देखते ही देखते ही बात पूरे क्षेत्र में फैल गई. अब तो दूसरे किसान भी भिंडी की इस किस्म की खेती करने के बारे में सोच रहे हैं। आप भी शुरू कर सकते हैं लाल भिंडी की खेती:- 👉लाल भिंडी (Red Okra) की खेती आप भी शुरू कर सकते हैं. भिंडी की इस किस्म की खेती पहले यूरोपियन देशों में होती थी. भारतीय बाजारों में इसे आयात किया जाता रहा है. लाल रंग की भिंडी एंटी ऑक्सीडेंट, आयरन और कैल्शियम सहित अन्य पोषक तत्वों से भरपूर है. एंटी ऑक्सीडेंट तत्व इसे हार्ट हेल्थ के लिए उपयोगी बना रहे हैं। लाल भिंडी की ये खासियत भी जान लीजिए:- 👉लाला भिंडी से अच्छी कमाई तो हो ही सकती है, इसके अलावा उसकी कई और खासियत भी है. भिंडी की इस किस्म में मच्छर, इल्ली और दूसरे कीट जल्दी नहीं लगते. सामान्य हरी भिंडी की अपेक्षा इसकी फसल जल्दी पक जाती है और एकड़ में लगभग 40 से 50 क्विंटल तक उत्पादन भी होता है। स्रोत:- TV9 Hindi, 👉 प्रिय किसान भाइयों दी गई उपयोगी जानकारी को लाइक 👍🏻 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
22
1
अन्य लेख