AgroStar
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
लाखो नहीं करोड़ों का फायदा !
कृषि वार्ताAgroStar
लाखो नहीं करोड़ों का फायदा !
✅ खेती की लागत कम करने के लिए सरकार द्वारा देश में जैविक एवं प्राकृतिक खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है क्योंकि रासायनिक खादों के उपयोग से जहां खेती की लागत बढ़ती है तो वहीं इसके अनावश्यक और अत्यधिक प्रयोग से मिट्टी की उर्वरा शक्ति धीरे-धीरे कम होती है। वहीं यदि बात की जाए गोबर खाद जिसे “फार्म यार्ड मैन्योर” भी कहा जाता है। यह पशुओं के गोबर, मूत्र, छोड़ा हुआ तूडा आदि के सही गलने और सड़ने से बनती है यानि की बिना किसी खर्चे के तैयार हो जाती है। ✅ गोबर खाद सस्ती होने के साथ-साथ यह मिट्टी में सभी प्रकार के मुख्य पोषक तत्वों जैसे नाइट्रोजन, फॉस्फोरस, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्निशियम, सल्फर के साथ ही सूक्ष्म पोषक तत्व जैसे आयरन, मैंगनीज, कॉपर और जिंक जो पौधों की वृद्धि के लिए आवश्यक होते हैं वह सभी उपलब्ध कराती है। इतना ही नहीं गोबर खाद मिट्टी की जल धारण क्षमता को भी बढ़ाती है। ✅ किसान गोबर खाद कैसे बनाएँ? किसान गोबर की खाद बनाते समय पशु मूत्र का प्रयोग बहुत ही कम करते हैं। जबकि पशु मूत्र में 1 प्रतिशत नाइट्रोजन और 1.35 प्रतिशत पोटेशियम होता है। मूत्र में उपस्थित नाइट्रोजन यूरिया के रूप में उपलब्ध होता है। ऐसे में पशु मूत्र से यूरिया हवा में उड़े नहीं या नीचे मिट्टी में ना चले जाए इसके लिए किसानों को एक ट्रेंच या गड्डा बना लेना चाहिए। जिसकी लंबाई लगभग 6 से 7 मीटर, चौड़ाई 1.5 से 2.0 मीटर और इसकी गहराई 1 मीटर तक रखनी चाहिए। ✅ पशु मूत्र को सोखने के लिए तुड़ा, मिट्टी आदि को पशु मूत्र पर डालना चाहिए। अगले दिन इस मिश्रण को गोबर सहित ट्रेंच या गड्डे में डाल देना चाहिए। ऐसा रोजाना करते रहें जब यह भाग भूमि तल से 45 से 60 सेंटीमीटर ऊँचा हो जाये तो इस गोलाकार करके गाय के गोबर और मिट्टी के घोल से लीप दें। किसान ठीक इसी तरह एक गड्डा भर जाने के बाद दूसरा गड्डा बनाये और यही प्रक्रिया को दोहराएँ। इस तरह गोबर की खाद 4 से 5 महीने में बनकर तैयार हो जाएगी। ✅ यदि किसान पशु मूत्र को पहले नहीं डाल पाएं हो तो वो किसान सीमेंट से बने गड्डे में बाद में भी मूत्र को मिला सकते हैं। मूत्र व यूरिया को बेकार जाने से रोकने के लिए इसमें रासायनिक परिरक्षक जैसे जिप्सम और सुपर फास्फेट मिला सकते हैं। इन्हें शेड के नीचे डाला जाता है। ✅ किसान फसलों में कब डालें गोबर खाद किसानों को तैयार गोबर खाद को तुड़ाई से 3-4 हफ्ते पहले खेत में डालना चाहिए। शेष जो खाद जो बच जाती है उसे बुआई के तुरंत पहले खेत में डालना चाहिए। सामान्यतः 10 से 20 टन प्रति हेक्टेयर गोबर की खाद डाली जाती है। चारा फसलों और सब्जियों में 20 टन प्रति हेक्टेयर से ज्यादा खाद की जरूरत होती है। आलू, टमाटर, शकरकंद, गाजर, मूली, प्याज आदि फसलों में गोबर की खाद डालने से पैदावार बढ़ती है। वहीं गन्ना, धान, नेपियर घास और बागवानी के फलदार पौधों जैसे संतरा केला आम नारियल आदि में गोबर खाद बहुत अधिक फायदेमंद है। ✅ गोबर की खाद से नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम तुरंत तो नहीं मिलते पर इससे 30 प्रतिशत नाइट्रोजन, 60 से 70 प्रतिशत फॉस्फोरस और 70 प्रतिशत पोटेशियम पहली फसल को मिल जाते हैं। इसके साथ ही मिट्टी की उर्वरा शक्ति में धीरे-धीरे सुधार होता है जिससे रासायनिक खादों की आवश्यकता कम पड़ती है और खेती के खर्चे में कमी आती है। ✅स्त्रोत:-AgroStar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट 💬करके ज़रूर बताएं और लाइक 👍एवं शेयर करें धन्यवाद।
35
0
अन्य लेख