नई खेती नया किसानZee राजस्थान
रेगिस्तान में "अनार" - दे रहा लाखों की कमाई!
🔵 भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर से सटे सरहदी जिले जैसलमेर की मरुभूमि- जहां दूर दूर तक सिर्फ रेगिस्तान हैं , जहां वर्षों पूर्व पानी के लिए ग्रामीणों को मशक्कत करनी पड़ती थी, आज अनार जैसे फलों की खेती होने लगी है! 👉ध्यान देने वाली बात यह हैं की महज 40 रूपए का पौधा और 3 साल की मेहनत और लाखों की कमाई! 👉पौधे को बूंद-बूंद सिंचाई से जोड़कर उसकी देखभाल करना आवश्यक है. तीन साल के बाद पौधा फल देना शुरू करता है तथा 15 से 20 साल तक फल देता है. जिससे किसानों को खासा लाभ होता है. यह है अनुदान योजना- 👉कृषि विभाग के अधिकारियों के अनुसार, राष्ट्रीय बागवानी मिशन योजना के अंतर्गत अनार की खेती करने पर पौधे पर 40 प्रतिशत तक अनुदान मिल जाता है. इसके लिए कृषि विभाग की पंजीकृत पौधशाला से पौधे खरीदना आवश्यक होता है. पौधा लगाने और उसके तैयार होने तक तीन किस्तों में रख रखाव के लिए किसान को प्रतिहेक्टेयर 28 हजार रुपए की राशि भी दी जाती है. साथ ही बूंद-बूंद सिंचाई का प्लांट लगाने पर भी 50 प्रतिशत अनुदान दिया जाता है. 👉किसानों का कहना हैं की यदि अनार बेचने के लिए उन्हें बाजार उपलब्ध हो जाता है, तो और किसानों का रुझान इस खेती की तरफ हो सकता हैं! स्त्रोत- Zee राजस्थान 👉प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। इस वीडियो में दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
11
0
अन्य लेख