मानसून समाचारBhaskar
राजस्थान में जल्दी आएगा मानसून !
👉🏻 राजस्थान में थार के रेगिस्तानी किसान सिर्फ हवा की रफ्तार देखकर बता देते हैं कि, इस बार मानसून जल्दी आ रहा है या देर से। कम बारिश होगी या ज्यादा। फसल पर टिडि्डयों का प्रकोप होगा या नहीं। मौसम की भविष्यवाणी करने की यह कला सदियों से पीढ़ी दर पीढ़ी चली आ रही है।ठेठ राजस्थानी भाषा में कहें तो ‘अच्छा जमाना आने वाला हैं सच मानें तो इस बार टिडि्डयों का ज्यादा प्रकोप नहीं होने वाला, मानसून भी अच्छा आने की उम्मीद की जा सकती है। 👉🏻 मृगशिरा नक्षत्र के आधार पर हवा की रफ्तार और दिशा के आधार पर अलग-अलग भविष्यवाणी की जाती हैं उनका मानना हैं 10 और 11 जून को मृगशिरा नक्षत्र का चौथा और पांचवां दिन है। इन दो दिनों में अगर हवा अच्छी होती है तो कातरा (कीड़ा) का असर नहीं होता हैं, जो कि फसल को बर्बाद कर देता है। 👉🏻 14 और 15 जून को हवा तेज रही तो सांप-बिच्छू का प्रकोप भी ज्यादा नहीं होगा। 👉🏻 16 और 17 जून की हवा पर विशेष नजर रखनी होगी। मृगशिरा नक्षत्र के नौंवे और दसवें दिन हवा तेज होने पर अकाल नहीं पड़ता और उसके अगले दो दिन हवा बेहतर होने पर ज्यादा तापमान भी नहीं रहता| हवा अगर तेज गति में रहती है तो किसी तरह की बीमारी भी नहीं फैलती।मृगशिरा नक्षत्र के अंतिम दो दिन तेज हवा और आंधी नहीं आती है तो सावन के महीने में 17 दिन बाद बारिश होती है। 👉🏻आर्द्रा नक्षत्र की शुरुआत में ही अगर बूंदा-बांदी हो जाए तो इसे शुभ माना जाता है और जल्दी ही बरसात होने की आशा बंधती है। स्रोत:- Bhaskar, 👉🏻प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। यदि दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगी, तो इसे लाइक👍🏻करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
17
12
अन्य लेख