क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
मानसून समाचारZee Rajasthan
राजस्थान में आज रात से फिर सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, यहां होगी बारिश!
👉🏻 Jaipur : राजस्थान में पिछले कुछ दिनों से लगातार मौसम में बदलाव देखने को मिल रहा है. बीते सप्ताह प्रदेश के करीब एक दर्जन जिलों में जहां धूलभरी आंधी के साथ हल्की से मध्यम बारिश ने लोगों को भीषण गर्मी (Summer) से राहत दी थी. वहीं, इस दौरान दिन और रात के तापमान में करीब 2 से 3 डिग्री तक गिरावट भी दर्ज की गई थी. 👉🏻 वहीं, 20 अप्रैल से एक बार फिर से राजस्थान और उत्तर पश्चिमी भारत के ऊपर बन रहा एक नया पश्चिमी विक्षोभ अगले तीन दिनों तक प्रदेशवासियों को गर्मी से राहत (Weather Alert) देता हुआ नजर आएगा. इस दौरान बीकानेर, जयपुर, भरतपुर संभाग में मौसम बदलने के साथ हल्की से मध्यम बारिश दर्ज होने की संभावना है. मौसम केन्द्र जयपुर निदेशक आरएस शर्मा का कहना है कि "20 अप्रैल से सक्रिय होने वाले इस पश्चिमी विक्षोभ का असर प्रदेश में 19 अप्रैल रात से ही देखने को मिलेगा. 👉🏻 इस दौरान बीकानेर संभाग में धूलभरी आंधी (Weather Forecast) के साथ हल्की बारिश की संभावना है तो वहीं 20 अप्रैल को बीकानेर, जयपुर और भरतपुर संभाग में इस विक्षोभ का असर सबसे ज्यादा देखने को मिलेगा. इस दौरान करीब 50 किमी की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है तो वहीं मध्यम से तेज बारिश होने की भी संभावना है. 👉🏻 21 अप्रैल को जयपुर और भरतपुर में इस विक्षोभ का असर रहेगा. इस दौरान प्रदेश के अधिकतर जिलों में दिन और रात के तापमान में गिरावट दर्ज की जाएगी. वहीं, 22 अप्रैल से प्रदेश में एक बार फिर से मौसम शुष्क बनने के साथ तापमान में भी बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी. कृषि मौसम सलाह: (i) उपरोक्त मौसम के मद्देनजर किसानों को यह सलाह दी जाती है कि जो फसलें कट कर तैयार हो चुकी है या खलिहान में अभी भी पड़ी है, उसे सुरक्षित स्थान पर भंडारण करें (ii) कृषि मंडियों में खुले आसमान में रखे हुए अनाज को ढककर व सुरक्षित स्थान पर रखें ताकि उन्हें भीगने से बचाया जा सके। (iii) खेतों में लगे सोलर सिस्टम को भी अचानक तेज हवाओं से नुकसान हो सकता है अतः सुरक्षित स्थान पर रखें। (iv) यदि अपने आसपास मेघगर्जन की आवाज सुनाई दे या बिजली चमकती हुई दिखाई दे, तो पेड़ के नीचे शरण ना लें। तेज अंधड़ के समय बड़े पेड़ों के नीचे व कच्चे मकानों में शरण लेने से बचें. (v) तेज अंधड़ से बिजली के तारों के टूटने एवं खंभों के गिरने से क्षति होने की संभावना है. (vi) अंधड़ के समय दृशयता कम होने से यातायात व्यवस्था प्रभावित हो सकती है, वाहन चालक विशेष सावधानी बरतें. 👉🏻 खेती तथा खेती सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए कृषि ज्ञान को फॉलो करें। फॉलो करने के लिए अभी ulink://android.agrostar.in/publicProfile?userId=558020 क्लिक करें। स्रोत:- Zee Rajasthan, 👉🏻 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। यदि दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
41
7
संबंधित लेख