सफलता की कहानीTV9
राजस्थान के इस किसान ने उगाये दुनिया के सबसे महंगे आम!
🥭मियाजाकी को दुनिया का सबसे महंगा आम कहा जा रहा है. राजस्थान के एक किसान ने इसे उगान में सफलता पायी है. राजस्थान के कोटा से लगभग 15 किमी दूर स्थित गिरधापुरा में रहनेवाले किसान, श्री किशन सुमन ‘मियाज़ाकी आम’को उगाने की कोशिश कर रहे थे उन्हें सफलता मिली है और उनके बगान में मियाज़ाकी आम के तीन पौधे हैं, जिसने इस बार फल दिया है! 👉मियाज़ाकी, आम की एक विशेष किस्म है, जिसे दुनिया के सबसे महंगे आम के रूप में जाना जाता है. यह 2.7 लाख रुपये प्रति किलो तक बिकते हैं. गौरतलब है कि कोंकण की अल्फांसो आम दुनियाभर में प्रसिद्ध है. जबकि मध्यप्रदेश का 3.5 किलों वाला नूरजहां हाल ही में लोकप्रिय हुआ है! मियाज़ाकी आम की खासियत- 👉द बेटर इंडिया के मुताबिक राजस्थान के किसान श्री किशन दो एकड़ जमीन के मालिक हैं. वह बताते हैं कि मियाज़ाकी आम का छिल्का लाल होता है और इसके गूदे का रंग चमकीला नारंगी रंग का होता है. जो कुछ हद तक जेली की तरह होता है. यह आम काफी मीठे होते हैं और अन्य किस्मों के आकार के ही होते हैं. यह आम बहुत दुर्लभ है इसलिए यह बहुत महंगा है! मियाजाकी का इतिहास- 👉मियाजाकी आम अमेरिका के फ्लोरिडा में उगाए जाने वाले इरविन आम से आता है. इसे जापान के क्यूशू आईलैंड पर उगाया जाता है. 80 के दशक में इसे फ्लोरिडा से जापान लाया गया था. अगर आम के अनुकूल मौसम में इसे उगाया जाता है तो दूसरे आम की तुलना में इसमें 15 फीसदी अधिक शुगर होता है. साथ ही मियाजाकी आम का वजन लगभग 350 ग्राम हो सकता है और यह एक अलग लाल रंग का हो जाता है! यूट्यूब से मिली जानकारी- 👉श्री किशन को मियाजाकी आम के बारे में यूट्यूब से जानकारी मिली और इससे वह काफी प्रभावित हुए. भारत में इसे उगाया जा सकता है या नहीं और इसकी कमर्शियल वैल्यू की जानकारी हासिल करने के लिए उन्होंने अपने दोस्तों से बात की. इसके बाद उन्होंने विदेशी फलों से पैसा कमाने के बारे में सोचा. फिर उनके दोस्त ने उन्हें साल 2018 में तीन पौधे दिये जो उनके दोस्त ने थाईलैंड से मंगवाये थे! फिलहाल आम को बेचने की योजना नहीं- 👉पौधा लगाने के बाद किशन ने इसकी अच्छे से देख रेख की है. अब पौधे चार फीट लंबे हो गये हैं. इशमें फल लगने लगे, तब किशन ने इसकी फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की. श्री किशन बताते हैं कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस फल की कीमत 21,000 रुपये से 2 लाख रुपये प्रति किलो के बीच हो सकती है. उनके पौधे भी फल देने लगे हैं. पर उन्होंने इसे अभी बेचना शुरू नहीं किया है. फिलहाल श्री किशन के पास व्यावसायिक रूप से इस आम को बेचने की योजना नहीं है. वह इस अनोखे आम को परिवार और दोस्तों के बीच बांटना चाहते हैं! जोखिम उठाने से नहीं डरें किसान- 👉श्री किशन कहते हैं खेती में नयी तकनीकों का प्रयोग हो रहा है. इसमें अब बदलाव हो रहे हैं. इसका फायदा किसानों को मिल रहा है. किशन कहते हैं कि नये प्रयोग के तौर पर किसानों कोब बागवानी भी ट्राई करनी चाहिए. इससे उनकी आमदनी बढ़ सकती है. उन्होंने कहा कि किसान नुकसान के जर से जोखिम उठाने मे से डरते हैं. पर उन्हें चिंता नहीं करनी चाहिए क्योंकि अगर सही तरीके से फसल की देख रेख की जाए और सही जगह पर बेचा जाए तो उन्हें नुकसान नहीं होगा! स्त्रोत:- TV9 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
19
2
अन्य लेख