AgroStar
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
 ये कीट बर्बाद कर देगा पूरी फसल!
गुरु ज्ञानAgroStar
ये कीट बर्बाद कर देगा पूरी फसल!
🌱मौसम के उतार-चढ़ाव के कारण जनवरी-फरवरी महीने में सरसों की फसलों में चेंपा (मोयला) कीट लगने की संभावना बढ़ जाती है. दरअसल, चेंपा कीट ठंड के मौसम का फैलता है, जब तापमान 10 से 20 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है. ऐसी स्थित में मौसम में ह्यूमिडिटी (आर्द्रता) अधिक हो जाती है. जिस वजह से चेंपा कीट फैलने का खतरा अधिक हो जाता है, जो किसानों की फसलों को प्रभावित कर सकता है. 🌱कृषि विभाग ने किसानों को दी ये सलाह पिछले कुछ दिनों से ठंड में काफी इजाफा हुआ है, जिस वजह से सरसों की फसलों में चेंपा (मोयला) कीट लगने की संभावना बढ़ गई है. कृषि विभाग के अनुसार, अगर किसानों द्वारा इन कीटों की रोकथाम के लिए कोई उपाय नहीं किया गया, तो फसलों के उत्पादन प्रभावित हो सकता है. ऐसे में कृषि विभाग के अधिकारियों एवं पर्यवेक्षकों द्वारा सलाह दी गई है की कीटनाशकों का समय पर उपयोग करके इन कीटों को नियंत्रित करें. 🌱पौधों की ग्रोथ रोक देता है चेंपा कीट जनवरी माह में चेंपा कीट का प्रकोप अधिक होता है. यह कीट हल्के हरे-पीले रंग का होता है और पौधे के विभिन्न नरम भागों, फूलों, कलियों और फलों पर रहकर रस चूसता है जो छोटे समूहों में पाया जाता है. इसके कारण पौधों की ग्रोथ रूक जाती है. कलियों की संख्या कम हो जाती है और फूलों की पैदावार भी प्रभावित होती है. 🌱कैसे करें चेंपा कीट का प्रबंधन? चेंपा कीट के प्रकोप के कुछ ही दिनों में जब पौधे की मुख्य शाखा की लंबाई 10 सेमी के आसपास तक बढ़ जाती है, चेंपा की संख्या में लगभग 20 से 25 तक का वृद्धि देखने पर, मेलाथियॉन 5% प्रस्तावित मात्रा में, प्रति हेक्टेयर 25 किलो, सवा लीटर प्रति हेक्टेयर 50 ई.सी. या डायमेथोएट 30 ई.सी. प्रति हेक्टेयर एक लीटर की दवा को 400 से 500 लीटर पानी में विघटन करके छिड़काव करें। 🌱 स्त्रोत:- AgroStar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट 💬करके ज़रूर बताएं और लाइक 👍एवं शेयर करें धन्यवाद
49
0
अन्य लेख