मौसम की जानकारीTV9
मौसम अपडेट :- किसानों के लिए आई अच्छी खबर! अगले 48 घंटे में इन इलाकों में हो सकती है बारिश!
⛈️किसानों के लिए अच्छी खबर आई है. अगले 24 घंटों के दौरान, उत्तर प्रदेश और बिहार की तलहटी, उप हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है. पूर्वोत्तर भारत के बाकी हिस्सों, बिहार के बाकी हिस्सों, पूर्वी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, तटीय कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश संभव है. मध्य प्रदेश, विदर्भ, मराठवाड़ा, तेलंगाना, पूर्वी राजस्थान, ओडिशा के कुछ हिस्सों, छत्तीसगढ़ और रायलसीमा में एक या दो स्थानों पर मध्यम बारिश हो सकती है. गुजरात दिल्ली और लक्षद्वीप में छिटपुट हल्की बारिश संभव है! ⛈️शुरुआत में मॉनसूनी बारिश के लिए किसानों को काफी इंतजार करना पड़ा, जिसका असर बुवाई पर साफ दिखा. लेकिन अब कहानी उलट हो गई है और भारी बारिश के कारण किसानों की फसल बर्बाद हो रही है और सरकार से मुआवजा नहीं मिल रहा है. यहीं कारण है कि किसान अब सोयाबीन की फसल पर ट्रैक्टर चलाने को मजबूर हो गए हैं! किसानों के लिए आई अच्छी खबर- ⛈️मानसून सीजन में लगाई जाने वाली धान, मक्का, ज्वार और बाजारे की फसल की बुवाई के आंकड़े इस साल कमजोर है. पहले मानसून में देरी और बारिश में कमी का सीधा असर खरीफ की फसलों पर पड़ा है. इस वर्ष खरीफ की फसल की बुवाई कम मात्रा में हुई है. हालांकि, भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि अगले 15 दिन अच्छी बारिश की उम्मीद है! ⛈️इसके अलावा मूंग और उड़द की दाल के साथ-साथ तिल, मूंगफली और सोयाबीन की फसल भी कम बोई गई है. सरकार ने इस वर्ष खरीफ की फसलों की बुवाई को लेकर आंकड़ा जारी किया है! ⛈️कृषि मंत्रालय द्वारा रविवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, फसल वर्ष 2021-22 (जुलाई-जून) के चालू खरीफ सीजन में धान जैसी गर्मियों की फसलों के लिए अब तक बुआई का क्षेत्र 1.55 प्रतिशत कम होकर 1,043.87 लाख हेक्टेयर है! ⛈️बुआई का काम अब भी जारी है और गर्मियों (खरीफ) की फसलों की बुआई अगस्त के अंत तक जारी रह सकती है. किसानों ने एक साल पहले इसी अवधि में 1,060.37 लाख हेक्टेयर में गर्मियों (खरीफ) की फसलें लगाई थीं! ⛈️खरीफ फसलों की बुआई दक्षिण-पश्चिम मानसून की शुरुआत के साथ जून से शुरू होती है. मंत्रालय ने कहा कि एक जून से 20 अगस्त के बीच मॉनसून की बारिश आठ फीसदी कम रही! स्त्रोत:- tv9 👉🏻प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
85
8
अन्य लेख