AgroStar
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
मटर में उखटा रोग का नियंत्रण!
गुरु ज्ञानAgrostar
मटर में उखटा रोग का नियंत्रण!
✅ उकठा रोग एक फफूंद जनित रोग है। इस रोग से मटर की फसल को 40 से 45 प्रतिशत तक नुकसान होता है। ✅ रोग का लक्षण :- ➡ यह रोग प्रारंभिक अवस्था में यानी 5 से 6 सप्ताह के पौधों में अधिक होता है। ➡ इस रोग से प्रभावित पौधों की पत्तियां पीली होने लगती हैं। ➡ कुछ ही समय में पौधे मुरझा कर सूखने लगते हैं।पौधों की जड़ें एवं तने काले रंग के दिखाई देते हैं। ➡जड़ें सड़ने लगती हैं। यदि पौधा बच भी जाए तो प्रभावित पौधों में फलियां एवं दाने नहीं बनते। ✅ बचाव के उपाय :- ➡इस रोग से बचने के लिए फसल चक्र अपनाएं। ➡ बुवाई से पहले प्रति किलोग्राम बीज को 1 ग्राम कार्बेंडाजिम से उपचारित करें। ➡इसके अलावा प्रति किलोग्राम बीज को 4 ग्राम ट्राइकोडर्मा से भी उपचारित कर सकते हैं। ➡खेत की जुताई करते समय प्रति एकड़ खेत में 1.5 - 2 किलोग्राम ट्राइकोडर्मा पाउडर मिलाएं। ➡इस रोग के उपचार हेतु कॉपर ऑक्सीक्लोराइड 50%WG घटक युक्त कूपर-1 @ 500 ग्राम प्रति एकड़ की दर से जमीन के माध्यम से उपयोग करें। ✅ स्त्रोत:- AgroStar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट 💬करके ज़रूर बताएं और लाइक 👍एवं शेयर करें धन्यवाद।
11
0