AgroStar
सभी फसलें
कृषि ज्ञान
कृषि चर्चा
अॅग्री दुकान
 मटर की फसल में पाउडरी मिल्डू का नियंत्रण!
गुरु ज्ञानAgrostar
मटर की फसल में पाउडरी मिल्डू का नियंत्रण!
🌿आज के गुरु ज्ञान में हम जानेंगे "मटर की फसल में पाउडरी मिल्डू का नियंत्रण"! ●मटर की फसल का यह सबसे भयंकर रोग है। ●एरीसिपे पिसी नामक फंगस के कारण होता है जो एक पादप रोगज़नक़ है इसके बीजाणु मृदा में व जंगली पौधों की पत्तियों पर पनपते हैं। ●बाद में उपयुक्त वातावरण मिलते ही रोग की उत्पत्ति का कारण बनते हैं। ● इस रोग के लक्षण पौधों के सभी भागों पर देखे जा सकते हैं। ● लक्षण छोटे सफेद चूर्णी धब्बों के रूप में होते हैं, जो संख्या एवं आकार में बड़े होने पर एक-दूसरे से मिल जाते हैं। ●रोगग्रस्त पौधों की टहनियों पर जो फलियां आती हैं, वे प्रायः बहुत छोटी व सिकुड़ी हुई होती हैं। ●फलियां पकने से पहले ही सूखकर नीचे गिर जाती हैं। अधिक संक्रमण होने पर सूख कर झड़ जाती हैं। ●संक्रमित कलिकाएं अन्य स्वस्थ कलिकाओं से पांच से आठ दिन बाद खिलती हैं और उन पर फल नहीं लगते। ●अगर उनमें फल लग भी जाएं तो वे छोटे आकारके रह जाते हैं। ▶रोकथाम ● इस रोग के नियंत्रण हेतु (मैन्कोजेब 63% + कार्बेन्डाजिम 12% WP) घटकयुक्त मन्डोज़ 300-350 ग्राम प्रति एकड़ 200 लीटर पानी मे घोलकर छिडकाव करें। ● इस रोग के नियंत्रण हेतु सल्फर 80% डब्ल्यूजी @ 750-1000 ग्राम प्रति. 🌿स्त्रोत:- AgroStar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद।
9
1