सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस
मक्का की फसल में ज़िंक पोषक तत्व का महत्व!
👉🏻मक्का में ज़िंक की कमी सबसे अधिक प्रचलित है क्योंकि इसमें अन्य सूक्ष्म पोषक तत्वों की तुलना में अधिक ज़िंक की आवश्यकता होती है। मक्का की फसल में अच्छे सिट्टे भरने के लिए ज़िंक बहुत महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। इसलिए, ज़िंक की कमी मक्का की फसल की उपज को 10 से 15% तक कम कर सकती है। इसलिए मक्का की फसल में ज़िंक देना बहुत जरूरी है। बहुत किसान 10 किलोग्राम प्रति एकड़ की दर से मक्का में ज़िंक सल्फेट का उपयोग करते हैं। लेकिन किसान इस जिंक सल्फेट का उपयोग अन्य फास्फोरस आधारित रासायनिक उर्वरकों के साथ मिलाकर करते हैं। इसलिए, इस ज़िंक सल्फेट में ज़िंक फास्फोरस उर्वरक में फास्फोरस के साथ अत्यधिक स्थिर होता है, जिससे इसमें मौजूद ज़िंक बहुत कम मात्रा में फसल को उपलब्ध होता है। इसलिए, किसानों ने फास्फोरस उर्वरकों के साथ-साथ ज़िंक सल्फेट का उपयोग ना करें। संभवत: किसानों को मक्का बोने के समय यूरिया में ज़िंक लगाना चाहिए। इससे फसल की वृद्धि में सुधार कर पैदावार बढ़ाने में मदद मिलती है। स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, 👉🏻प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक👍करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
12
3
अन्य लेख