समाचारJansatta
बेटियों को 15000 रुपये दे रही है योगी सरकार!
👉सिर्फ केंद्र की मोदी सरकार नहीं बल्कि कई प्रदेश सरकारें भी बेटियों को आगे बढ़ाने और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए काम कर रही हैं। जिसके तहत अलग-अलग नामों से योजनाओं की शुरूआत की हुई है। ऐसी ही उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से योजना शुरू की हुई है। जिसके तहत बेटी के जन्म से लेकर उसके ग्रेजुएट होने तक 15000 रुपए मिलेंगे। आइए आपको भी बताते हैं इस योजना के बारे में... कन्या सुमंगला योजना क्या है:- 👉इस योजना के तहत प्रदेश के आर्थिक रूप से कमजोर परिवार की बेटियों को मदद की जाती है। योजना में बेटियों की शिक्षा और उनके फ्यूचर को सिक्योर करने के लिए हर संभव मदद करती है। इस योजना के तहत बेटियों की एजुकेशन ओर हेल्थ दोनों का ख्याल रखा जाता है। आंकड़ों के अनुसार योगी सरकार ने 2019-20 में कन्या सुमंगला योजना के लिए 1200 करोड़ रुपए का बजट जारी किया था। यह योजना बेटियों की शिक्षा पर जोर देती है। इस योजना के लाभार्थियों के अकाउंट में रुपया डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर होता है। किन लोगों को मिलता है इस योजना का लाभ:- 👉जिन परिवारों की आय अधिकतम सिर्फ 3 लाख रुपए है। 👉मूलरूप से उत्तर प्रदेश का निवासी होना चाहिए, साथ ही स्थाई निवास प्रमाण पत्र होना चाहिए। 👉एक परिवार को दो बेटियों को इस स्कीम का लाभ मिल सकता है। अगर किसी महिला को जुड़वां बच्चियां होती हैं और इसके बाद तीसरी संतान भी बेटी होती है, तो तीसरी बेटी को भी इस योजना का लाभ मिलेगा। 6 चरणों में रुपया होता है ट्रांसफर:- 👉पहले चरण में बेटी के जन्म पर 2 हजार रुपए मिलते हैं। 👉दूसरे चरण में बेटी के वैक्सीनेशन के दौरान एक हजार रुपए की मदद की जाती है। 👉 तीसरे चरण में जब बेटी पहली कक्षा में आती है तो दो हजार रुपए दिए जाते हैं। 👉चौथे चरण के तहत बेटी के छठी क्लास आने पर 2 हजार रुपए दिए जाते हैं। 👉पांचवें चरण में बेटी के वीं कक्षा में आने पर 3 हज़ार रुपए की मदद की जाती है। 👉आखिरी चरण में 12 वीं कक्षा पास करने के बाद स्नातक या दो साल के डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन लेने पर 5 हजार रुपए की मदद दी जाती है। इस तरह से लिया जा सकता है फायदा:- 👉जब तक बेटी वयस्क नहीं हो जाती तब तक रुपया मां के अकाउंट में ट्रांसफर की जाएगी। माता के निधन होने पर राशि को पिता के अकाउंट में ट्रांसफर किया जाएगा। माता-पिता दोनों की मौत होने पर बेटी के अकाउंट में डायरेक्ट राशि ट्रांसफर की जाएगी। 👉योजना में आवेदन वेबसाइट www.mksy.up.gov.in पर ऑनलाइन किया जा सकता है। जो लोग ऑनलाइन आवेदन के लिए जनसुविधा केंद्र/सीएससी सेंटर नहीं जा सकते हैं वो फॉर्म भरकर खंड विकास अधिकारी, एसडीएम, जिला परिवीक्षा अधिकारी, उपमुख्य परिवीक्षा अधिकारी कार्यालय में जमा कर सकते हैं। स्रोत:- Jansatta, 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
30
1
अन्य लेख