AgroStar
बरसात के मौसम में करे गेंदे की खेती,होगी लाखो की कमाई!
गुरु ज्ञानAgrostar
बरसात के मौसम में करे गेंदे की खेती,होगी लाखो की कमाई!
👉नमस्कार किसान भाइयों एग्रोस्टार के कृषि लेख में आप का स्वागत है सावन के महीने में फूलों की मांग बढ़ जाती है. ऐसे में इस समय पैदावार हासिल कर किसान बाजार में अच्छी कीमत पर अपनी उपज को बेच रहे हैं. किसानों को दुर्गा पूजा और दिवाली तक उत्पादन मिलता रहेगा. इससे वे पारंपरिक फसलों के मुकाबले कई गुना अधिक कमाई कर सकेंगे. 👉फूल की खेती किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है. वे बरसात के मौसम में इससे अच्छी आमदनी कर रहे हैं. सावन के महीने में फूलों की मांग बढ़ जाती है. ऐसे में इस समय पैदावार हासिल कर किसान (Farmers) बाजार में अच्छी कीमत पर अपनी उपज को बेच रहे हैं. किसानों को दुर्गा पूजा और दिवाली तक उत्पादन मिलता रहेगा. इससे वे पारंपरिक फसलों के मुकाबले कई गुना अधिक कमाई कर सकेंगे. फिर शादियों का सीजन आ जाता है और फूलों की मांग काफी बढ़ जाती है. इसी सोच के साथ उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के किसान गेंदा (Marigold) फूल की खेती कर रहे हैं और लाभ कमा रहे हैं. 👉कुछ समय पहले खेतों में लगाए गए गेंदा सावन आते-आते फूल देने लगता है. हरदोई के किसान हाइब्रिड किस्म की पौध या बीज बो रहे हैं. किसानों का कहना है कि बरसात के ठीक पहले लगाया जाने वाला गेंदा साल में तीन फसलें देता है. संडीला क्षेत्र के किसान विजय शंकर ने बताया कि वह काफी समय से गेंदा की खेती कर रहे हैं. उनके यहां से लखनऊ की दूरी करीब 40 किलोमीटर. उन्होंने बताया कि फूल लखनऊ में अच्छे दामों में बिक जाते हैं. इस समय बाजार भाव 80 से 100 रुपए किलो तक चल रहा है. 👉एक एकड़ में आता है 30 हजार रुपए का खर्च:- उन्होंने बताया कि एक एकड़ में गेंदा की खेती करने में करीब 30,000 रुपए का खर्चा आता है. फसल तैयार हो जाने के बाद एक एकड़ खेत से हर हफ्ते करीब डेढ़ क्विंटल तक फूल प्राप्त होता है. इस तरह देखा जाए तो किसानों को करीब 6 महीने में गेंदा फूल की खेती से लगभग 3 लाख तक की आमदनी होती है. इन दिनों सावन का महीना चल रहा है. ऐसे में गेंदा का भाव बढ़ा हुआ है. यह भाव नवरात्रि तक ऊपर-नीचे होता रहता है. 👉बारिश के दिनों से ठीक पहले उगाया जाने वाला गेंदा बारिश खत्म होते-होते सर्दियों तक किसानों की जेब भरने का काम करता है. हरदोई के खेतिहर किसान दीपक का कहना है कि वह भी गेहूं और धान की पारंपरिक खेती से हटकर गेंदे की खेती करने की तैयारी कर रहे हैं. इसके लिए उद्यान विभाग की तरफ से उन्होंने प्रशिक्षण प्राप्त किया है. उद्यान विभाग चौपाल के माध्यम से लगातार किसानों को उत्तम फूलों की खेती के संबंध में जानकारी दे रहा है. 👉फूलों की खेती में बढ़ रहा किसानों का रुझान:- जिला उद्यान अधिकारी सुरेश कुमार ने बताया कि जिले में फूलों की खेती में किसानों की रुचि बढ़ रही है. किसानों को समय-समय पर प्रशिक्षण और उत्तम बीज के साथ-साथ सब्सिडी भी उपलब्ध कराई जाती है, जिससे किसान फूलों की अच्छी फसल लेकर अपनी स्थिति सुधार रहे हैं. जिले के संडीला, शाहाबाद और बिलग्राम क्षेत्र में गेंदा फूल की खेती की जा रही है. इसका बाजार अति विस्तृत है. 👉जिला उद्यान विभाग के हरिओम ने बताया कि वह शोध के जरिए लगातार गेंदा की अच्छी किस्मों पर काम कर रहे हैं. हरदोई में पैदा होने वाले गेंदा फूल की लखनऊ, कन्नौज और शाहजहांपुर के अलावा दिल्ली, हरियाणा और पंजाब समेत कई प्रदेशों तक मांग है. हमारी कोशिश है कि अधिक से अधिक मात्रा में किसान गेंदा फूल की खेती करें और अपनी आमदनी बढ़ाएं. 👉स्रोत:-Agrostar किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
3
1
अन्य लेख