सलाहकार लेखtv9hindi
फुली ऑटोमेटिक ट्रैक्टर! क्लच और गियर नहीं, इलेक्ट्रिक-तेल दोनों से चलेगा!
👉🏻 50 एचपी के बेस मॉडल HAV S1 की कीमत 9,49,000 रुपये है। कंपनी ने टॉप वेरिएंट 50 एचपी के HAV S1+ के लिए दाम 11,99,000 रुपये निर्धारित की है। इस ट्रैक्टर में एसी केबिन भी लगा है। 👉🏻 किसानों के लिए यह बड़ी खबर है। प्रोसेक्टो कंपनी ने भारत का पहला फुली ऑटोमेटिक हाइब्रिड ट्रैक्टर लांच किया है। इसमें कोई बैटरी नहीं होगी। इसे भारत का अब तक का सबसे हाईटेक ट्रैक्टर बताया जा रहा है। इस ट्रैक्टर का नाम एचएवी ट्रैक्टर्स सीरीज एस1 (HAV Tractors Series S1) है। इस तकनीक वाले ट्रैक्टर को सबसे पहले 2019 में जर्मनी में पेश किया गया था। अब यही टेक्नोलॉजी ‘मेड इन इंडिया’ हाइब्रिड ट्रैक्टर के रूप में भारत में उतरने जा रही है। 👉🏻 बिना बैट्री वाले इस ट्रैक्टर में एडवांस्ड इको फ्रेंडली टेक्नोलॉजी लगी है। एचएवी ट्रैक्टर भारत में उतारने जा रही कंपनी प्रोसेक्टो इंजीनियरिंग के एमडी अंकति त्यागी ने ‘PTI’ से कहा, कोविड के इस दौर में प्रोडक्शन, लॉजिस्टिक्स, सप्लाई चेन, मैनपावर, लॉकडाउन की पाबंदियों के बावजूद भारत के लोगों के लिए सस्ता और टिकाऊ ट्रैक्टर बाजार में उतारने पर हमारा ध्यान है। इस ट्रैक्टर में तकरीबन 2 दर्जन ऐसी टेक्नोलॉजी लगी है जो पहले किसी कंपनी ने नहीं उतारी. भारत में पहली बार एचएवी ट्रैक्टर में ये तकनीक देखने को मिलेगी। इलेक्ट्रिक और तेल दोनों पर चलेगा 👉🏻 इसे फ्यूचर रेडी इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर का नाम दिया गया है। यह ऐसा हाइब्रिड ट्रैक्टर है जिसमें कोई बैटरी नहीं लगी है। यह इलेक्ट्रिक होने के साथ तेल के अलग-अलग स्रोतों से भी चलेगा। इसी ट्रैक्टर को चाहें तो इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर के रूम में ही इस्तेमाल कर सकते हैं। बस इंजन को इसके लिए अपग्रेड करना होगा। यह ट्रैक्टर पूरी तरह से ऑटोमेटिक है। इसमें ऑल व्हील इलेक्ट्रिक ड्राइव की सुविधा मिलती है। भारत में यह अकेला ट्रैक्टर जो फुली ऑटोमेटिक है और इसमें क्लच, गियर नहीं लगे हैं। बस यह तीन मोड में काम करता है-फॉरवर्ट, न्यूट्रल और रिवर्स। इससे किसानों को खेती-बाड़ी में आसानी होगी। 50 परसेंट तेल की कम खपत 👉🏻 यह ट्रैक्टर इको फ्रेंडली है। इसमें दो सीरीज है. पहला एस1 जिसमें 28 परसेंट तक तेल की खपत कम होगी। दूसरा एस2 जिसमें 50 परसेंट तक तेल की खपत कम होगी। यह सेल्फ इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी पर आधारित ट्रैक्टर है जिसमें इलेक्ट्रिक मोटर्स लगी है। यह मोटर ट्रैक्टर को चलाने के लिए बिजली पैदा करती है। इससे यह ट्रैक्टर हाइब्रिड यानी कि बिजली और तेल दोनों पर बराबर काम करता है। इसमें ऑल व्हील इंडीपेंडेंट सस्पेंसन लगा है जिसे हाइट के हिसाब से एडजस्ट कर सकते हैं। घर के लिए बिजली ले सकते हैं 👉🏻 भारत में यह कोई पहला ट्रैक्टर है जिसमें एमसीएस (mcsVMax Cover Steering) लगा है. इससे स्टीयरिंग सिस्टम बहुत आसान होता है और इसे ऑपरेट करने के लिए न के बराबर दम लगाना होता है। इसका टर्निंग रेडियस मात्र 2.7 मीटर का है। ट्रैक्टर में इलेक्ट्रिक पीटीओ लगा है जिससे बिजली प्राप्त कर सकते हैं। इस बिजली से चाहें तो खेत में वाटर पंप चलाएं या घर में 3 फेज का 40 केवीए की बिजली ले सकते हैं। किसानों को आराम और सुरक्षा को देखते हुए कई नए फीचर जोड़े गए हैं। सबसे बड़ी बात कि इस ट्रैक्टर पर 10 साल की वारंटी मिल रही है। एसी केबिन भी 👉🏻 भारत के किसानों की जरूरतों को देखते हुए ही इस ट्रैक्टर को लांच किया गया है। किसान खेती में जिस तरह की समस्या से जूझते हैं, उसे देखते हुए इस ट्रैक्टर को तैयार किया गया है। 10 साल की वारंटी का मतलब है कि कंपनी ने दीर्घ काल के लिए किसानों की सुविधाओं का खयाल रखा है। कंपनी ने किसानों की राय ली है और उसी आधार पर एसी केबिन लगाने पर भी विचार चल रहा है। ये है दाम 👉🏻 अन्य ट्रैक्टर से तुलना करें तो सुविधाओं के मुताबिक यह ट्रैक्टर महंगा नहीं दिखता। 50 एचपी के बेस मॉडल HAV S1 की कीमत 9,49,000 रुपये है। कंपनी ने टॉप वेरिएंट 50 एचपी के HAV S1+ के लिए दाम 11,99,000 रुपये निर्धारित की है। इस ट्रैक्टर में एसी केबिन भी लगा है। इन दोनों ट्रैक्टर को कंपनी की वेबसाइट www.hybridagrivehicle.com पर बुक कर सकते हैं। बुकिंग के लिए 10 हजार रुपये चुकाने होंगे। कंपनी ने 8,49,000 रुपये में भी एक वेरिएंट उतारा है जिसकी जानकारी वेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है। ट्रैक्टर की बुकिंग 30 मई से शुरू होगी और 15 अगस्त से डिलीवरी शुरू कर दी जाएगी। 👉🏻 खेती तथा खेती सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए कृषि ज्ञान को फॉलो करें। फॉलो करने के लिए अभी ulink://android.agrostar.in/publicProfile?userId=558020 क्लिक करें। स्रोत:- TV 9 Hindi, 👉🏻 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। यदि दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
18
7
संबंधित लेख