कृषि वार्ताकृषि जागरण
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत 29 करोड़ किसानों ने किया आवेदन!
👉प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से करोड़ो किसान लाभान्वित हुए है.लाभार्थी किसानों का कवरेज बढ़ा है और जोखिम कम हुआ है.उपरोक्त उद्बोधन "भारत-75 अभियान" के तहत फसल बीमा सप्ताह के शुभारम्भ कार्यक्रम में केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने दिया। ज्यादा संख्या में किसानों को जोड़ा जायेगा:- 👉कैलाश चौधरी ने संबोधित करते हुए कहा कि -इस अभियान में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से ज्यादा से ज्यादा किसानों को जोड़ने का प्रयास किया जाएगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना कृषि समृद्धि की दिशा में अभूतपूर्व साबित हुई है. इस योजना से लाभार्थी किसानों को कवरेज बढ़ा है और जोखिम कम हुई है. इस योजना के तहत प्रतिवर्ष औसतन 5.5 करोड़ किसानों द्वारा आवेदन किया जाता है. वर्ष 2016 में प्रारंभ हुई इस योजना में अभी तक कुल 29 करोड़ आवेदन प्राप्त हुए हैं। 👉गैर ऋणी किसानों के लिए सामान्य सेवा केंद्रों (सीएसके) एवं पोर्टल के रूप में नामांकन के अतिरिक्त चैनल का प्रावधान किया गया है. साथ ही आईटी प्रौद्योगिकी के समावेश से किसानों के दावों की अतिशीघ्र गणना को पारदर्शी रूप से सुनिश्चित किया जा रहा हैइस कार्यक्रम में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, विभिन्न प्रदेशों के मुख्यमंत्री और कृषि मंत्री वर्चुअल रूप से जुड़े. इस दौरान कृषि राज्यमंत्री पुरुषोत्तम रुपाला एवं कृषि मंत्रालय के अधिकारीगण उपस्थित रहे। योजना से करोड़ों से अधिक किसान लाभान्वित:- 👉कृषि राज्यमंत्री ने बताया कि फसल बीमा सप्ताह आजादी का अमृत महोत्सव अभियान के तहत है. इससे हमारे लिए किसानों की प्रेरणादायक कहानियों को राष्ट्र के साथ साझा करने और सभी अधिसूचित जिलों के किसानों के बीच जागरूकता लाने में मदद मिलेगी. फसल बीमा सप्ताह के तहत विशेष रूप से 75 जिलों की आकांक्षी जिलों के रूप में पहचान की गई है। 👉वहां विभिन्न संचार चैनलों जैसे प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना वैन, दीवार पेंटिंग, जमीन पर किसान संवाद, क्षेत्रीय भाषाओं में रेडियो स्पॉट, पोस्टर का प्रदर्शन के माध्यम से किसानों में जागरूकता फैलाने का काम किया जाएगा। स्रोत:- Krishi Jagran, 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
0
0
अन्य लेख