गुरु ज्ञानएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
प्याज, लहसुन की कटाई और भंडारण के लिए उचित योजना की आवश्यकता है
रब्बी प्याज की कटाई और भंडारण • प्याज की कटाई से 10 से 15 दिन पहले पानी देना बंद करना चाहिए। • जब 50% से अधिक प्याज की गर्दन नीचे झुक जाए, तब प्याज को काटना चाहिए। • पत्तियां अधिक सुखी न हों तब प्याज की कटाई करनी चाहिए। कटाई के बाद, इन्हें पत्तियों के साथ ही खेत में सुखाना चाहिए।। प्रत्येक पंक्ति में प्याज इस तरह रखने चाहिए कि दूसरी पंक्ति के प्याज पहली पंक्ति को ढंक दें और पत्तियां खुली रहें। • तीन दिनों के बाद प्याज की सूखे पत्तियों को प्याज के साथ 2 से 2.5 सेमी ब्लेड छोडकर कटाई की जानी चाहिए, इससे रोगकारक प्याज में आसानी से प्रवेश नहीं कर सकते है। • चारों ओर से अच्छे हवादार भंडारण घर में प्याज को रखना चाहिए। प्याज बीज उत्पादन की कटाई और भंडारण • कटाई के समय बीज गुच्छ भुरे रंग के हो जाते है। बीज के उपरी भाग टूटकर उसमें काले बीज दिखाई देते है। गुच्छों मे बीज काले होने के बाद उन्हें निकालना चाहिए। • सभी गुच्छ समान रूप से नहीं पकते, जैसे जैसे वो तैयार होते है वैसे गुच्छों को काटना चाहिए। साधारण रूप से गुच्छों की कटाई 3 से 4 बार करनी चाहिए। • कटे हुए गुच्छों को तिरपाल पर फैला कर 5 से 6 दिनों तक अच्छी धुप में सुखाना चाहिए। सुखे हुए गुच्छों को छड़ी से धीरे धीरे कूटकर अलग करके बाद में बीजों को स्वच्छ करना चाहिए। अच्छी गुणवत्ता वाले बीज एकत्र करके धुप में सुखाना चाहिए। भंडारण के लिए 6% से अधिक आर्द्रता नहीं होना चाहिए।
लहसुन फसल की कटाई और भंडारण • लगभग 50 प्रतिशत पत्तियां सुखने के बाद, लहसुन की कटाई करनी चाहिए। • लहसुन की कटाई गांठों के साथ करनी चाहिए। • लहसुन गांठों को 3 से 4 दिनों तक खेत में ही सुखाना चाहिए। इससे भंडारण क्षमता बढ़ जाती है। • लहसुन को कुदाल और दरांती के उपयोग से काटा जाना चाहिए और उसे अलग किया जाना चाहिए। • कटाई की गई लहसुन के पत्तियां में नमी हो तभी 25-30 गांठों को बांध कर गुच्छे बना लें। इसके बाद, उन्हें पेड़ के नीचे 15 दिनों तक सुखाना चाहिए और फिर भंडारण घर में संग्रहीत किया जाना चाहिए। डॉ। शैलेंद्र गाडगे (प्याज और लहसुन अनुसंधान निदेशालय, राजगुरुनगर जि। पुणे)एग्रोस्टार एग्रोनोमी एक्सलेंस सेंटर, 5 दिसम्बर 17
35
2
संबंधित लेख