AgroStar
नैनो यूरिया से खेती की लागत में मिलेगी मदत!
कृषि वार्ताAgrostar
नैनो यूरिया से खेती की लागत में मिलेगी मदत!
👉उत्‍तर प्रदेश के जिलों में पांच से 15 मई तक चलाया गया नैनो यूरिया अभियान, सहकारिता मंत्री का दावा खेती की लागत घटाने में मिलेगी मदद नैनो यूरिया फसल में 70 से 80 प्रतिशत तक पौधों द्वारा उपयोग कर लिया जाता है जिससे पर्यावरण शुद्घ रहता है। वहीं दानेदार यूरिया का 28 से 30 प्रतिशत उपभोग होता है। शेष बची यूरिया नाइट्रोजन गैस या नाइट्रेट के रूप उड़कर व पानी के साथ बह जाता है। लखनऊ,राज्य ब्यूरो :-- 👉सहकारिता मंत्री जेपीएस राठौर ने कहा कि नैनो यूरिया खेती में मील का पत्थर साबित होगी, इससे उत्पादन लागत में कमी आएगी। उन्होंने नैनो डीएपी व नैनो के अन्य उत्पादों पर भी चर्चा करते हुए कहा कि सहकारिता से जुड़े अधिकारी जिलों के विकासखंडों पर पांच से 15 मई के बीच किसान सभाएं आयोजित कराएं। 👉यूरिया की 50 किलो की बोरी बाजार में 266.50 रुपये की है, जबकि नैनो यूरिया 236 रुपये में ही उपलब्ध है। मंत्री ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश सहकारी बैंक के सभागार में इफको की ओर से आयोजित नैनो यूरिया उपयोग गोष्ठी में कहा कि सभाओं में जिलास्तरीय अधिकारी नैनो यूरिया के उपयोग, महत्व, विपणन, प्रयोग विधि व सावधानियों के बारे में किसानों को अवगत कराएं। 👉गोष्ठी में जनप्रतिनिधियों को भी जरूर आमंत्रित करें। प्रमुख सचिव सहकारिता बीएल मीणा ने कहा कि इसके परिणाम उत्साहवर्धक रहे हैं। इफको प्रदेश की सभी सहकारी समितियों में पेंटिंग कराए। कृषि, उद्यान, गन्ना व अन्य विभागों समन्वय बनाकर अनुदानित दरों पर स्प्रेयर उपलब्ध कराएं ताकि सभी समितियों में अधिक से अधिक नैनो यूरिया के प्रचार प्रसार कर बिक्री हो सके। 👉संगोष्ठी में विशेष सचिव सहकारिता बी चंद्रकला, प्रबंध निदेशक पीसीएफ मासूम अली सर्वर, अपर आयुक्त एवं निबंधक सहकारिता आरके कुलश्रेष्ठ, प्रबंध निदेशक यूपीसीबी वरुण मिश्र के साथ समिति के सचिव व प्रगतिशील किसान शामिल हुए। स्रोत:- Agrostar 👉प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक👍करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
16
0
अन्य लेख