AgroStar
निर्यात पर प्रतिबंध के बाद आज खुली मंडिया!
समाचारAgrostar
निर्यात पर प्रतिबंध के बाद आज खुली मंडिया!
👉🏻पांच दिनों से लगातार मध्य प्रदेश की कृषि उपज मंडियों में कामकाज बंद है। मंडियां शनिवार, रविवार एवं सोमवार को अवकाश के कारण बंद थी। वही केंद्र सरकार द्वारा निर्यात पर प्रतिबंध लगाए जाने पर व्यापारियों ने मंगलवार एवं बुधवार को हड़ताल घोषित की थी। केंद्र सरकार द्वारा निर्यात में कुछ दिलाई दए जाने के पश्चात मंडियों में गुरुवार को कृषि उपज की बिक्री हुई। मध्य प्रदेश की अधिकांश मंडियों में गुरुवार को गेहूं सहित अन्य कृषि जिंसों की आवक सामान्य रही। गेहूं के भाव को लेकर जहां अंदेशा जताया जा रहा था कि निर्यात पर प्रतिबंध के बाद गेहूं के भाव में तेज गिरावट होगी, किंतु ऐसा मंडियों में नहीं दिखाई दिया, लगभग सभी मंडियों में गेहूं के भाव स्थिर रहे। मंदसौर कृषि मंडी दो दिनों बाद खुली: 4 हजार 894 बोरी जिंसों की आवक, सोयाबीन 6000 से 7491 क्विंटल बिका। तीन दिन की छुट्टी और दो दिनी मंडी व्यापारी की हड़ताल के बाद खुली मंडियों में अच्छी आवक रही। गुरुवार को मंदसौर कृषि उपज मंडी में 34 हजार 894 बोरी जिंसों की आवक रही। भोपाल ; 5 दिन बाद खुली मंडी 👉🏻गुरुवार को मंडी में गेहूं, चना या अन्य अनाज की खरीदी की गई, लेकिन आवक और भाव दोनों ही कम रहे। एसोसिएशन के अध्यक्ष ज्ञानचंदानी ने बताया, पांच हजार क्विंटल गेहूं की आवक हुई और भाव दो हजार से 2250 रुपए प्रति क्विंटल तक रहे। चना की आवक कमजोर रही। आने वाले दिनों में आवक बढ़ जाएगी। कृषि उपज मंडी छिंदवाड़ा- 👉🏻छिंदवाड़ा में गेहूं के भाव को लेकर संशय की स्थिति बन रही है, जिसके कारण गुरुवार को मंडी शुरू होने के साथ ही आवक कुछ कम दर्ज की गई। गुरुवार को कुसमेली मंडी में 15 हजार क्विंटल गेहूं की आवक दर्ज की गई, जबकि इससे पूर्व कुसमेली मंडी में तीस हजार क्विंटल तक प्रतिदिन गेहूं पहुंच रहा था। वहीं मंडी में किसानों को 2200 रुपये प्रति क्विंटल का भाव मिला। कयास लगाए जा रहे थे कि कुसमेली मंडी में खरीदी बंद होने से आवक बढ़ जाएगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मंडी खुलने के साथ ही पहले दिन आवक में कमी दर्ज की गई आने वाले दिनों में मंडी में आवक मिलने वाले भाव पर निर्भर रहेगी। गुरुवार को गेहूं अधिकतम 2200 रुपये तक मिला है जिसके कारण आवक आने वाले दिनों में बढ़ने की संभावना मंडी प्रबंधन जता रहा है। कृषि उपज मंडी सागर- 👉🏻पांच दिन से बंद चल रही सागर कृषि उपज मंडी दो दिनों की हड़ताल के बाद गुरुवार से एक बार फिर खुल गई है। तीन दिन छुट्टी और दो दिन हड़ताल होने की वजह से मंडी में कम ही किसान अपनी उपज लेकर पहुंचे, जिस कारण बाजार भाव पूर्वानुमान की तरह नहीं गिरे। इंदौर व दूसरी मंडियों में भी भाव तेज होने से सागर में भी किसानों को अपनी उपज के ठीक दाम मिले, लेकिन राहत की बात यह है कि सागर के कई व्यापारियों का माल कांडला पोर्ट में उतरने लगा है जिस वजह से व्यापारियों ने भी राहत की सांस ली है। सारंगपुर कृषि उपज मंडी- 👉🏻पिछले चार दिनों में सारंगपुर कृषि उपज मंडी में गेहूं का भाव 200 से 300 रुपये प्रति क्विंटल तक गिर गया है। वहीं किसान भी भाव कम होने से मंडी नहीं आ रहे हैं जिसके चलते गुरुवार को केवल 871 क्विंटल गेहूं की बिकने आई। जबकि रोक लगाने से पहले 2 से 3 हजार क्विंटल प्रतिदिन गेहूं बिकने आ रहा था। देश में कम हो रहा है गेहूं के भंडारण को लेकर सरकार द्वारा दूसरे देशों में निर्यात पर रोक लगाई गई है। जिसका व्यापारियों द्वारा विरोध किया जा रहा है। जिसके विरोध में व्यापारियों ने मंगलवार और बुधवार दो दिनो तक खरीदारी नहीं की। इसका असर कृषि उपज मंडी में भी दिखाई देने लगा है। 3 दिन पहले जहां गेहूं के भाव 200 रुपये गिर गए थे वहीं गुरुवार को 100 रुपये की और गिरावट दर्ज की गई। नीलामी में अधिकतम बोली 2071 रुपये तक लगी। ऐसे में किसानों को काफी घाटा हो रहा है। स्त्रोत:- Agrostar, 👉🏻किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
6
0
अन्य लेख