सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
धान की बुवाई करते समय इन बातों का ध्यान रखें!
धान की फसल में ध्यान रखनेवाली बातें क्या करें क्या न करें • 1 किलो बीज के लिए 2 ग्राम/लीटर पानी में कार्बेन्डाजिम या ट्राईसाइक्लोजोल के घोल से बीजों का उपचार करें। बीज को 10 घंटे के लिए पानी में भिगो दें और अतिरिक्त पानी निकाल दें। यह गीला बीज उपचार अंकुरों को ब्लास्ट जैसे अंकुर रोग से 40 दिनों तक सुरक्षा देता है और यह विधि सूखे बीज उपचार से बेहतर है। • रोपाई में देरी न करें क्योंकि इससे जुताई खराब होती है, मुख्य जोत में जल्दी फूल आते हैं और उपज में कमी आती है। • हानिकारक कीटों अंडों को बाहर निकालने के लिएऔर खरपतवार को जड़ से नष्ट करने के लिए खेत को हल से 20-25 सेमी की गहराई पर जुताई करनी चाहिए। • एक भी पौधे को पहाड़ी क्षेत्र में न लगाएं। • रोपाई से पहले लगभग एक सप्ताह के लिए खेत को पानी से भरा या पानी से संतृप्त रखें क्योंकि इससे पिछली फसलों के अवशेष और भूसे को सड़ने में मदद मिलती है। • बीज को 2-3 सेमी से अधिक गहरा नहीं लगाया जाना चाहिए क्योंकि गहरी बुवाई में देरी से जुताई रुक जाती है। • पौध को 20-25 दिन होने के बाद में रोपाई करनी चाहिए और सामान्य स्थिति में प्रति दो से तीन पौधे रोपे जाने चाहिए। • धान में नाइट्रेट युक्त उर्वरक जैसे कैल्शियम अमोनियम नाइट्रेट (CAN), अमोनियम सल्फेट नाइट्रेट (ASN) और कुछ NPK जटिल उर्वरकों या मिश्रणों से बचना चाहिए क्योंकि इस रूप में नाइट्रोजन की हानि निक्षालन और विनाइट्रीकरण के कारण हुई है। • यदि पुरानी पौध का प्रयोग किया जाता है तो प्रति पौध की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए। • रॉक फॉस्फेट को तटस्थ या क्षारीय मिट्टी में नहीं लगाया जाना चाहिए। • हर मामले में पौध को 2-3 सें.मी. की गहराई पर रोपा जाना चाहिए। • फसल की कटाई में देरी न करें। • धान में नाइट्रोजन यूरिया, अमोनियम सल्फेट, और अमोनियम क्लोराइड या नाइट्रेट रहित एनपीके जटिल उर्वरक के आवेदन द्वारा दिया जाना चाहिए। • कटाई के समय अनाज में नमी की मात्रा 20 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए। • जिंक की कमी वाली मिट्टी में 20-25 किलोग्राम जिंक सल्फेट प्रति हेक्टेयर अंतिम जुताई के समय डालना चाहिए। • खरपतवार को रोपाई के 20 दिन बाद और दूसरी बार रोपाई के 50-60 दिन बाद नियंत्रित करना चाहिए। • जुताई से फूल आने की अवस्था तक उचित सिंचाई करनी चाहिए क्योंकि ये महत्वपूर्ण अवस्थाएँ होती हैं। • अनाज की त्वरित और समान परिपक्वता को प्रोत्साहित करने के लिए मिट्टी के प्रकार के आधार पर कटाई से 7 से 15 दिन पहले खेत से पानी निकाल देना चाहिए। • कटाई तब की जानी चाहिए जब 80 प्रतिशत बालियाँ में लगभग 80 प्रतिशत पके हुए धान हों। • कटाई के समय स्पाइकलेट्स का ऊपरी भाग भूसे के रंग का होना चाहिए और दाने के बिल में लगभग 20 प्रतिशत नमी होनी चाहिए।
6
4
संबंधित लेख