कृषि वार्ताTV 9 Hindi
दाल की बढ़ती कीमतों पर सरकार ने लिया है यह बड़ा फैसला!
👉🏻देश में दाल की कीमतों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है. मगर इसमें अब राहत मिलने के आसार हैं. सरकार लगातार दाल की कीमतों को काबू करने की कोशिश कर रही है. स्टॉक घोषित करने के निर्देश के बाद अब सरकार ने विदेशों से दालों के आयात के कॉन्ट्रैक्ट भी किए हैं. पिछले दो-तीन महीनों में दाल की कीमतें तेजी से बढ़ी हैं. बढ़ते भाव पर काबू पाने के लिए सरकार ने व्यापारियों से अपने स्टॉक घोषित करने को कहा था. मतलब ये कि देश के व्यापारी ये बताएं कि उनके पास दाल की कितनी स्टॉक है. सरकार इस बार अपना बफर स्टॉक भी नहीं बना पाई है। देश में इतना है दाल का स्टॉक:- 👉🏻सीएनबीसी आवाज के सूत्रों के मुताबिक, करीब 4200 व्यापारियों और मीलों ने अपना स्टॉक घोषित किया है. बताया जा रहा है कि देश में 15 लाख टन दाल का स्टॉक है. सरकार बाहर से दाल के आयत के लिए पूरी कोशिश कर रही है. सरकार ने दो देशों मलावी और म्यंमार के साथ दाल के आयत के लिए साझा करार भी किए हैं. बताया जा रहा है कि यह करार पांच साल के लिए किया गया है। इन देशों के साथ सरकार ने किया करार:- 👉🏻बताया जा रहा है कि मलावी से 50 हजार टन तुअर दाल के इंपोर्ट के लिए करार हुआ है. वहीं, म्यांमार से 2.5 लाख टन उड़द और एक लाख टन तुअर दाल के आयात के लिए करार किए हैं. सरकार की पूरी कोशिश है कि दाल के दाम को बढ़ने नहीं दिया जाए. इन देशों से आयात के बाद आने वाले दिनों में दाल की कीमतें कम हो सकती हैं. सरकार ने इन देशों से दाल के आयात छूट प्राइवेट ट्रेडर्स को दी है. वो वहां दाल भारत ला सकते हैं। दाल के आयत पर सरकार ने हटा दिया है प्रतिबंध:- 👉🏻केंद्र सरकार ने देश में दालों की मांग को पूरा करने और महंगाई पर नियंत्रण पाने के लिए 15 मई को मूंग, उड़द और तूर (अरहर) को आयात से मुक्त कर दिया था. तीनों दालों 31 अक्टूबर 2021 तक के लिए प्रतिबंधित से हटाकर निशुल्क की श्रेणी में डाल दिया गया है। 👉🏻दाल के प्रमुख निर्यातक देशों ने 31 अक्टूबर, 2021 तक अरहर, उड़द और मूंग सहित दालों के अप्रतिबंधित आयात की अनुमति देने की भारत की घोषणा का स्वागत किया है. इसमें अमेरिका, रूस कनाडा और ऑस्ट्रेलिया जैसे देश शामिल हैं। स्रोत:- TV 9 Hindi, 👉🏻प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍🏻 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
3
1
संबंधित लेख