कृषि वार्ताtv9hindi
ट्रैक्टर्स के लिए देश ने बनाया एक्सपोर्ट का नया रिकॉर्ड!
ट्रैक्टर्स के लिए देश ने बनाया एक्सपोर्ट का नया रिकॉर्ड! 👉🏻 ऐसा क्या हुआ कि ट्रैक्टर एक्सपोर्ट में रिकॉर्डतोड़ वृद्धि हुई है. बता रहे हैं सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग (CIAE) भोपाल के डायरेक्टर सीआर मेहता. 👉🏻 खेती-किसानी से जुड़े कारोबार के मोर्चे पर एक अच्छी खबर है. ट्रैक्टर एक्सपोर्ट (Tractor Export) में भारी उछाल दर्ज किया गया है. तीन महीने में ही 11 हजार से अधिक यूनिटों का निर्यात बढ़ गया है. इससे एग्रीकल्चर इंडस्ट्री के लोग उत्साहित हैं. ट्रैक्टर मैन्युफैक्चरर एसोसिएशन (TMA) के मुताबिक साल 2020 में जनवरी से मार्च तक दूसरे देशों में 17,191 ट्रैक्टर भेजे गए थे, जबकि इस साल 28,434 यूनिट एक्सपोर्ट किए जा चुके हैं. कभी खेती की जरूरतों के लिए भारत को ट्रैक्टर आयात करना पड़ता था. लेकिन वर्तमान समय में हमने एक्सपोर्ट का नया रिकॉर्ड बना दिया है. आखिर ऐसा क्या हुआ कि एक साल में इतनी वृद्धि देखने को मिल रही है? 👉🏻 भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) के अधीन काम करने वाले सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग (CIAE) भोपाल के डायरेक्टर सीआर मेहता से हमने इस सवाल का जवाब तलाशने की कोशिश की. मेहता ने कहा कि कई देशों में अच्छी एग्रीकल्चर ग्रोथ इसकी बड़ी वजह है. भारत में भी अच्छे एग्रीकल्चर ग्रोथ के कारण ही कोरोना संकट में भी जनवरी से दिसंबर 2020 तक देश में 8,80,048 ट्रैक्टर बिके थे. जबकि 2019 में सिर्फ 8,04,000 यूनिट कर ही बिक्री हो पाई थी. ये है ट्रैक्टर एक्सपोर्ट में वृद्धि की वजह 👉🏻 भारत ट्रैक्टर का बड़ा उत्पादक बन गया है. दूसरे देशों में यहां के मुकाबले ट्रैक्टर की लागत ज्यादा है और यहां जैसी क्वालिटी भी नहीं मिल रही है. इसलिए यहां से एक्सपोर्ट बढ़ रहा है. कुछ भारतीय कंपनियों ने दूसरे देशों में अपने प्लांट लगा लिए हैं. हमारे ट्रैक्टर अमेरिका और अफ्रीकन देशों में सबसे ज्यादा निर्यात हो रहा है. यही नहीं दूसरी एग्रीकल्चर मशीनरी (Agri Machinery) का भी काफी एक्सपोर्ट हो रहा है. हम इस मामले में काफी एडवांस हैं. भारत में ट्रैक्टर उत्पादन और एक्सपोर्ट वर्ष कुल उत्पादन एक्सपोर्ट 2021 2,95,301 28,434 2020 1,93,195 17,191 2019 1,90,528 21,619 2018 1,89,818 23,374 अवधि: जनवरी से मार्च. Source: TMA कभी हम ट्रैक्टर के आयात पर निर्भर थे 👉🏻 मेहता बताते हैं कि 1960 तक हम अपने यहां ट्रैक्टर की मांग आयात से पूरी करते थे. फिर कुछ कंपनियों ने विदेशी सहयोग से भारत में ही निर्माण निर्माण शुरू किया. भारत ने 1970 के अंत तक ट्रैक्टर की कुल जरूरतों को पूरा करने के लिए आयात जारी रखा. लेकिन आज हम इस मामले न सिर्फ आत्मनिर्भर बन गए हैं बल्कि वर्ल्ड लीडर बनकर उभरे हैं. हमारे देश में आठ से नौ लाख ट्रैक्टर बन रहे हैं. हम एग्रीकल्चर मशीनरी का एक्सपोर्ट ज्यादा कर रहे हैं, इंपोर्ट कम. आयातक देश और ट्रैक्टर कंपनियां 👉🏻 भारत से अमेरिका, नेपाल, अफ्रीकन देशों, बांग्लादेश, इटली, टर्की एवं म्यांमार आदि में इसका एक्सपोर्ट कर रहे हैं. यहां की प्रमुख ट्रैक्टर कंपनियों में महिंद्रा एंड महिंद्रा, सोनालिका और एस्कॉर्ट आदि प्रमुख हैं. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के गवर्नर शशिकांत दास ने इस साल भी ट्रैक्टर सेगमेंट में तेजी की उम्मीद जताई है. 👉🏻 खेती तथा खेती सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए कृषि ज्ञान को फॉलो करें। फॉलो करने के लिए अभी ulink://android.agrostar.in/publicProfile?userId=558020 क्लिक करें। स्रोत:- News 18, 👉🏻 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। यदि दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
7
1
संबंधित लेख