कृषि वार्ताTV 9 Hindi
जैविक खेती ने पकड़ी रफ्तार,पांच साल में ही 6.19 लाख हेक्टेयर!
👉🏻सेहत के सवालों और जमीन की गुणवत्ता आदि की वजह से जैविक खेती (Organic Farming) के प्रति के प्रति किसानों का रुझान बढ़ रहा है. पिछले पांच साल ( 2015-16 से 2020-21) में ही रिकॉर्ड 6.19 लाख हेक्टेयर नया क्षेत्र इसमें कवर कर लिया गया है. इस दौरान जहरीली खेती को छोड़कर 15.47 लाख किसान जुड़े हैं. सरकार ने इसे प्रमोट करने के लिए परंपरागत कृषि विकास योजना (PKVY) के तहत 1,576.65 करोड़ रुपये की मदद जारी की है. इस बात की जानकारी केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने दी है। 👉🏻प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रासायनिक खादों का इस्तेमाल कम करके जैविक खेती की ओर फोकस करने के लिए कई बार आह्वान कर चुके हैं. दरअसल, जैविक उत्पादन के मानक नियम के तहत, रासायनिक खादों और कीटनाशकों के इस्तेमाल वाले क्षेत्रों को जैविक के रूप में मान्यता हासिल करने के लिए न्यूनतम 3 साल तक का वक्त लगता है. ताकि जिस खेत में जैविक कृषि उत्पाद उगाए जा रहे हैं उसमें रासायनिक खादों का असर पूरी तरह से खत्म हो। जैविक खेती की जरूरत क्यों? 👉🏻बीमारियों की एक बड़ी जड़ रासायनिक खाद और कीटनाशक (Pesticides) भी है. कई राज्यों में इन दोनों का अंधाधुंध इस्तेमाल किया जा रहा है. जिसकी वजह से लोगों की सेहत खराब हो रही है. एक दौर में यहां पर जैविक खादों से ही लोग खेती करते थे. उसके उत्पाद सेहत को हानि नहीं पहुंचाते थे। ये राज्य कर रहे हैं अच्छा काम:- 👉🏻जैविक खेती के मामले में मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, छत्तीसगढ़, यूपी, ओडिशा, कर्नाटक, झारखंड और असम बहुत अच्छा काम कर रहे हैं. लेकिन सबसे बेहतरीन काम सिक्किम (Sikkim) ने किया है. इस राज्य ने जनवरी 2016 में ही खुद को 100 फीसदी आर्गेनिक एग्रीकल्चर स्टेट घोषित कर लिया था। कब कितनी खेती:- 👉🏻वर्ष 2003-04 में भारत में ऐसी खेती सिर्फ 76,000 हेक्टेयर में हो रही थी. जो 2009-10 तक बढ़कर 10.85 लाख हेक्टेयर हो गई. अब ऐसी खेती का दायरा बढ़कर 33.32 लाख हेक्टेयर हो गया है. दुनिया भर में भारतीय जैविक उत्पादों की मांग में वृद्धि से किसानों की कमाई भी बढ़ रही है। जैविक उत्पादों का एक्सपोर्ट:- 👉🏻एपिडा के मुताबिक 2019-20 में भारत से 6,38,998 मिट्रिक टन जैविक उत्पादों का एक्सपोर्ट किया. इससे देश को 4,686 करोड़ रुपये मिले. जबकि 2017-18 में हमने 4.58 लाख मीट्रिक आर्गेनिक उत्पाद एक्सपोर्ट करके 3453.48 करोड़ रुपये कमाए। 👉🏻भारत से जैविक उत्पादों के मुख्य आयातक अमेरिका, यूरोपीय संघ और कनाडा हैं. स्विट्जरलैंड, आस्ट्रेलिया, इजरायल, दक्षिण कोरिया, वियतनाम, न्यूजीलैंड और जापान भी यहां से जैविक उत्पाद मंगाते हैं। कितनी आर्थिक मदद:- 👉🏻परंपरागत कृषि विकास योजना के तहत आर्गेनिक खेती के लिए मदद मिलती है. तीन साल में प्रति हेक्टेयर 50 हजार रुपये मिलेंगे। -इसमें से किसानों को जैविक खाद, जैविक कीटनाशकों और वर्मी कंपोस्ट आदि खरीदने के लिए 31,000 रुपये (61 प्रतिशत) मिलता है। स्रोत:- TV 9 Hindi, 👉🏻प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍🏻 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
2
2
अन्य लेख