क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
सलाहकार लेखकृषि जागरण
जुलाई में इन कृषि कार्यों पर दें ज्यादा ध्यान, मिलेगा फसल का अच्छा उत्पादन!
देश के लगभग सभी हिस्सों में मानसून दस्तक दे चुका है। किसानों के लिए हर सीजन और महीना बहुत महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि इस पर किसान खेतीबाड़ी से जुड़े अहम कार्य करते हैं। इसी तरह जुलाई में भी किसानों को खेती से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण कार्यों को खत्म कर लेना चाहिए, ताकि फसल की बढ़वार अच्छी तरह हो पाए। आज हम किसान भाईयों को जुलाई में किस फसल में क्या काम करना चाहिए, इसकी विस्तार पूर्वक जानकारी देने जा रहे हैं। बुवाई संबंधी कार्य धान जुलाई में किसान धान की रोपाई का कार्य कर लें। रोपाई के लिए 20 से 30 दिन पुरानी पौध उपयोग करें। रोपाई को कतारों में ही करें। मूंगफली इस फसल की बुवाई जुलाई के मध्य तक पूरी कर लें। औसतन प्रति हैक्टेयर 80 से 100 किलो बीज का उपयोग करें। बाजरा इसकी बुवाई के लिए जुलाई का दूसरा या तीसरा सप्ताह उपयुक्त रहता है। देश के उत्तरी क्षेत्रों में बारिश के होते ही इसकी बुवाई कर दी जाती है। ज्वार एक हेक्टेयर में इस फसल की बुवाई के लिए 12 से 15 किलोग्राम बीज का उपयोग कर सकते हैं। अरहर इस फसल की कम समय में पकने वाली किस्मों की बुवाई करें। बुवाई जुलाई के पहले सप्ताह में कर लें। एक हैक्टेयर के लिए 12 से 15 किलोग्राम बीज का उपयोग करें। सोयाबीन देश के उत्तरी, मैदानी और मध्य क्षेत्रों में जुलाई के पहले सप्ताह में इसकी बुवाई कर देनी चाहिए। बीज की मात्रा 75 से 80 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर की दर से होना चाहिए। खरपतवार संबंधी कार्य गन्ना फसल को गिरने से बचाने की व्यवस्था कर लें। खेतों से पानी निकालने की व्यवस्था कर लें। फसल में लगी बेल को काटकर अलग कर दें। मक्का फसल से खरपतवार निकालते रहना चाहिए। अतिरिक्त पौधों की छटाई कर देनी चाहिए। खेत में नमी का ध्यान रखना चाहिए। अगर फसल की बुवाई नहीं की है, तो जल्द ही कर दें। सब्जियों की खेती संबंधी कार्य टमाटर किसान खेत को अच्ची तरह तैयार कर लें। खेत में 80 किलोग्रम सुपर फास्फेट और 80 किलोग्राम पोटाश वाली उर्वरक मिला दें। बैंगन जुलाई के पहले और दूसरे सप्ताह में रोपाई कर दें। इसके साथ ही फसल की हल्की सिंचाई कर दें। मिर्च इस फसल के फलों की तुड़ाई कर लें। इसके साथ ही बाज़ार भेजने की व्यवस्था करें। ग्वार फसल की तैयार फलियों को तोड़ लें। ध्यान रहे कि फलियों को कच्ची अवस्था में तोड़ा जाए। फसल को बाज़ार भेजने की व्यवस्था कर लें। आलू तैयार फसल की खुदाई करके बाज़ार भेजने की व्यवस्था करें। फलों की खेती संबंधी कार्य आम नए बाग लगा सकते हैं। रोपाई का कार्य शुरू कर सकते हैं। फलों को तोड़कर बाज़ार भेज सकते हैं। इसके साथ ही बाग में जल-निकास की व्यवस्था कर लें। केला अवांछित पत्तियों को निकाल दें। पेड़ों पर मिट्टी चढ़ा दें। नए बाग लगाने के लिए रोपाई का कार्य शुरू कर दें। अमरुद जुलाई में नए बाग की रोपाई का कार्य शुरू कर सकते हैं। उपयुक्त फसलों से जुड़े कार्यों को जुलाई महीने में पूरा कर लिया जाए, तो फसल की गुणवत्ता और उत्पादकता को बढ़ाया जा सकता है।इससे किसानों को बाजार में फसलों का भाव अच्छा मिल पाएगा, साथ ही अच्ची आमदनी हो पाएगी।
स्रोत:- कृषी जागरण यहां दी गई जानकारी यदि आपको उपयोगी लगे, तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
29
1
संबंधित लेख