AgroStar
जालौन में बनेगी Cow Safari!
समाचारAgrostar
जालौन में बनेगी Cow Safari!
👉 उत्तर प्रदेश के इटावा की लॉयन सफारी के तर्ज पर अब जालौन में काऊ सफारी बनाने की तैयारी है. इसके लिए जिला प्रशासन की तरफ से कार्य योजना तैयार की गई हैं और इस माह के अंत तक इसे शुरू कर दिया जायेगा. 'काऊ सफारी' बनने से जिले के आवारा पशुओं पर रोकथाम लगेगी ही, इसके साथ ही बेसहारा पशुओं को एक स्थाई जगह मिल सकेगी. 👉मेनिफेस्टो में अन्ना पशु को किया गया था शामिल:- यूपी की सरकार शुरूआत से ही गोवंश की रक्षा के लिए काम कर रही है. चुनाव के मेनिफेस्टो में भी अन्ना पशु को शामिल किया गया था, जिससे इस बाद से ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि गौवंश की सुरक्षा को लेकर सरकार बड़ा कदम उठा सकती हैं. इसकी शुरुआत जालौन से हो गई है. लगभग 150 हेक्टेयर में जल्द ही 'काऊ सफारी' का नजारा देखने को मिलेगा. जिले के मुख्यालय उरई में काऊ सफारी बनाने के लिए जिला प्रशासन की तरफ से कवायद शुरु कर दी गई है. नवीन गल्ला मंडी के समीप रगौली गांव में बंजर पड़ी वन विभाग की भूमि पर इसकी आधार शिला रखी जायेगी. इसका दायरा 150 हेक्टेयर के बीच तय किया गया है. काऊ सफारी बनने के बाद आवारा पशुओं से भी निजात मिलेगा. 👉मध्य प्रदेश में बनी थी पहली काऊ सेंचुरी:- देश में 'गो संरक्षण' का मॉडल रखने का काम सबसे पहले मध्य प्रदेश में किया गया. शिवराज सरकार ने 2017 में पहली काऊ सेंचुरी बनाई थी. यह काऊ सफारी आगर मालवा जिले की सुसनेर तहसील के सालरिया गांव में बनाई गई है. 472 हेक्टेयर में बनी इस काऊ सेंचुरी में 24 शेड हैं. 👉2-3 हजार पशुओं को रखा जा सकेगा:- जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने बताया कि वर्तमान में जिले में सात कान्हा गौशाला एवं 360 अस्थाई गौशालाएं हैं. जिनमें क्षमता के लिहाज से पशुओं को रखा जा रहा हैं. जिले में आवारा पशुओं से निजात मिल सके इसके लिए वन विभाग की भूमि पर 'काऊ सफारी' की कार्ययोजना तैयार की गई हैं. वन विभाग और मंडी समिति के द्वारा भूमि की पैमाईश कर ली गई है. इसके बाद आगे की रुपरेखा पर कार्य किया जायेगा. काऊ सफारी में लगभग 2-3 हजार पशुओं को रखा जा सकेगा. स्रोत:-Agrostar 👉किसान भाइयों ये जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं और लाइक एवं शेयर करें धन्यवाद!
14
1
अन्य लेख