क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
सलाहकार लेख एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस
जानें फूलगोभी में भूरापन से बचने के उपाय
👉🏻किसान भाइयों फूलगोभी की फसल में भूरेपन की समस्या बोरॉन  की कमी से आती है, सामान्य तौर पर इसके लक्षण फूल आने के बाद दिखाई देते हैं।पौधों का तना खोखला हो जाता है, फूल की सतह भूरे या गुलाबी रंग के क्षेत्र बन जाते हैं इसीलिए इसे भूरा सड़न या लाल सड़न भी कहते हैं। प्रभावित फूल स्वाद में कड़वे हो जाते हैं पत्ते का रंग पहले हरे रंग में और फिर पुराने पत्तों के शीर्ष पर हरा पीलापन लिए बदलता है। जब बोरान की गंभीर कमी होती है, तो पत्तियों का विकास और हिमस्खलन होता है। बढ़ती अवस्था पौधे की युवा अवस्था में ही मर सकती है। इससे बचाव के लिए बोरोन 20% को 1 ग्राम प्रति लीटर पानी में मिलाकर फसल पर छिड़काव करें। स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक👍करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
5
3
संबंधित लेख