एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
जानें गेंहू में भूरा रतुआ या भूरी गेरुई रोग की रोकथाम!
👉🏻किसान भाइयों गेंहूं की फसल में लगने वाला भुरा रतुआ या भूरी गेरुई एक फफूंदजनित रोग है। इसके प्रकोप से पत्तियों पर भूरे रंग चूर्ण सा बिखरा हुआ दिखाई देता है। रतुआ या गेरूई की फफूँदी के फफोले पत्तियों पर पड़ जाते है जो बाद में बिखर कर अन्य पत्तियों को प्रभावित करते है। इसके नियंत्रण के लिए मैंकोजेब 75% डब्ल्यूपी @ 600-800 ग्राम प्रति एकड़ 300 लीटर पानी में घोलकर फसल पर छिड़काव करें। स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। यदि दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
13
2
अन्य लेख