क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
सलाहकार लेखCentral Institute For Cotton Research
जानिए, कपास को कैसे बचाया जाये मंकी फिंगर के दुष्प्रभाव से!
👉🏻 किसान भाइयों 2,4-डाइक्लोरोफेनोएक्सिटिक एसिड (2,4-डी) का उपयोग खेतों की फसलों में एक चयनात्मक शाक के रूप में किया जाता है। कपास विकास नियामक/खरपतवारनाशी 2, 4-डी के प्रति बहुत संवेदनशील है। यहां तक कि थोड़ी मात्रा में फाइटो-विषाक्त प्रभाव लाने के लिए पर्याप्त है। अक्सर यह देखा गया है कि आस-पास के क्षेत्रों / खेतों से हवा के प्रभाव के कारण 2, 4-डी छिड़काव का एक बहाव कपास में 2, 4-डी सिंड्रोम का कारण हो सकता है। लक्षण 👉🏻 पौधों की पत्तियों में सामान्य परिवर्तन होने लगते हैं। पत्तियों के किनारे लम्बे होते जाते हैं। पत्तियों, पुष्प भागों और खण्ड विकृत होते हैं। पत्तियां संकीर्ण हो जाती हैं और प्रमुख शिराओं से जुड़ी होती हैं। फूल लम्बी पुष्प भागों के साथ नालीदार बन जाते हैं। हालांकि, फाइटो-टॉक्सिक प्रभाव और पत्ती और पुष्प भागों में असामान्य परिवर्तन आंशिक प्रभुत्व के पूर्ण नुकसान के साथ होते हैं। फलस्वरूप, निचले गांठ पौधों से उत्पन्न ऊपरी विकासशील टहनियों को झाड़ीदार बन जाते हैं। प्रभावित मॉर्फो-फ्रेम में, प्रभवित पत्तियां ज्यादातर कप के आकार की होती हैं और दिखने में कठोर होती हैं। प्रभावित पत्तियों की पंखुड़ियाँ अक्सर गुलाबी या बैंगनी रंग की हो जाती हैं। लक्षण सर्वोत्तम बढ़ती स्थितियों के तहत जल्दी से दिखाई देते हैं और लक्षणों की उपस्थिति में देरी होती है जब विकास प्रक्रिया धीमी होती है। प्रत्यक्ष रूप से पौधे प्रारंभिक विकास अवस्थाओं में 2, 4-डी के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं, जबकि पुराने पौधों में लक्षण धीमी गति से दिखाई देते हैं और स्पष्ट नहीं होते हैं। प्रभावित पत्तियां पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाती हैं, नए उभरते पत्ते समय बीतने के साथ सामान्य हो जाते हैं। 2, 4-डी प्रभावित पत्तियों के प्रकाश संश्लेषण, वाष्पोत्सर्जन और रंध्र के प्रवाह को काफी कम कर देता है। प्रबंधन 👉🏻 कपास लगाए जाने वाले क्षेत्र की फसलों में 2, 4-डी का छिड़काव नहीं करना चाहिए। 2, 4-डी का उपयोग किए जाने वाले स्प्रेयर के उपयोग से बचें। अगर उपयोग करना चाहते है तो दवाई छिड़काव वाले सभी उपकरणों को अच्छी तरह से साफ कर के उपयोग किया जाना चाहिए। 👉🏻 2, 4-डी के प्रभाव को कम करने के लिए पानी का छिड़काव किया जा सकता है। 👉🏻 नए पत्तियों के विकास के लिए यूरिया 1% के छिड़काव की सलाह दी जाती है। 👉🏻 2, 4-डी की सांद्रता के प्रभाव कम करने के लिए कैल्शियम कार्बोनेट (1.5%) या जिबरेलिक एसिड (50 पीपीएम) को पत्तियों पर छिड़काव करना चाहिए। 👉🏻 खेती तथा खेती सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए कृषि ज्ञान को फॉलो करें। फॉलो करने के लिए अभी ulink://android.agrostar.in/publicProfile?userId=558020 क्लिक करें। स्रोत:- Central Institute For Cotton Research, 👉🏻 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। यदि दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
6
1
संबंधित लेख