क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
कृषि वार्ताएग्रोवन
चने के न्यूनतम समर्थन मूल्य को 375 रूपये से बढ़ाने की सिफारिश
कृषि लागत और कीमतों के लिए आयोग ने केंद्रीय सरकार को आने वाले वित्त वर्ष में गेहूं की न्यूनतम समर्थन कीमत (एमएसपी) 375 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाने की सिफारिश की है। वर्तमान में, चने का न्यूनतम समर्थन मूल्य 3800 रुपये प्रति क्विंटल है और इसके ऊपर 200 रुपये है।
चने के साथ, राई के न्यूनतम समर्थन मूल्य को 250 रुपये प्रति क्विंटल में बढ़ाने के लिए भी सिफारिश की गई है। वर्तमान में, राई का न्यूनतम समर्थन मूल्य 3,600 रुपये प्रति क्विंटल और इसके ऊपर 100 रुपये है। इस बीच,सूत्रों ने बताया की कृषि मंत्रालय ने चने और राई के न्यूनतम समर्थन मूल्य को बढ़ाने के लिए कोई निर्देश नहीं दिया है। रबी मौसम के दालों की पैदावार में चने का 40% हिस्सा है। दूसरी ओर, तेल बीज की उपज में राई का 20% हिस्सा है। दालों और तेल बीज की आंतरिक मांग को पूरा करने के लिए, उन्हें पिछले कुछ वर्षो के लिए आयात किया जा रहा है । इसलिए, दालों और तेल बीज की उपज में वृद्धि को प्रोत्साहित किया जा रहा है। गेहूं के एमएसपी को 100 रुपये तक बढ़ाने का प्रस्ताव 2018-19 (अप्रैल-मार्च) के मौसम के लिए, कृषि लागत और कीमत आयोग ने केंद्र सरकार को गेहूं के एमएसपी को 100 रुपये तक बढ़ाने की सिफारिश की है। यदि केंद्र सरकार इसे एप्प देती है, तो गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1,725 रुपये तक पहुंच जाएगा। संदर्भ- एग्रॉवन 12 अक्टूबर 2017 एग्रोस्टार द्वारा अनुवादित
27
0
संबंधित लेख