क्षमाा करें, यह लेख आपके द्वारा चुनी हुई भाषा में नहीं है।
Agri Shop will be soon available in your state.
गुरु ज्ञानएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
ग्रीष्मकालीन धान में फुदका कीट का प्रबंधन
• मुख्य रूप से हरा फुदका, भूरा फुदका और सफेद पीठ वाला फुदका गर्मियों में उगाए जाने वाले धान के लिए हानिकारक हैं। • शिशु और प्रौढ़ दोनों पौधों की कोशिका से रस चूसते हैं। • प्रकोपित पौधे भूरे, पीले होकर सूख जाते है। • प्रकोपित फसल में जला हुआ परिणाम फसल में दिखाई देता है इसीलिए उसे "हॉपर बर्न" कहा जाता है। • पत्तों पर गोलाकार आकार तरीके से संक्रमण बढ़ता है। • संक्रमित पौधों पर बलियों में दाने परिपक्व नहीं हो सकते हैं। इसके कारण अनाज की उपज पर परिणाम दिखाई देता हैं। • एक सप्ताह के भीतर पूरे क्षेत्र में फसल का संक्रमण हो जाता है। • प्रकोपित क्षेत्र में नाइट्रोजनयुक्त उर्वरक की अनुशंसित मात्रा का उपयोग करें।
• जब इस रोग प्रकोप फसल में दिखाई दे, तो तुरंत ही खेत से पानी निकल दीजिये।_x000D_ • फुदका कीट को फोरेट 10 जी (10 किग्रा/हे) या कार्बोफ्यूरान 3 जी (20-25 किग्रा/हे) का उपयोग करके नियंत्रित किया जा सकता है।_x000D_ • यदि दानेदार कीटनाशकों से इसे नियंत्रित किया जा सके तो, एसीफेट 75@ एस.पी.@ 10 ग्राम या क्लोथियनिडिन 50 डब्ल्यूजी @ 5 ग्राम का छिड़काव करें। _x000D_ _x000D_ स्रोत - एग्रोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस_x000D_ _x000D_ यदि आपको यह जानकारी उपयोगी है, तो कृपया इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें!_x000D_ _x000D_ _x000D_
40
6
संबंधित लेख