पशुपालनGaon Connection
गोपाल रत्न पुरस्कार, गाय-भैंस की देसी नस्लों के संरक्षण के लिए दिया जाएगा पुरस्कार !
👉 डेयरी क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए अच्छी खबर है, डेयरी से जुड़े लोगों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर गोपाल रत्न पुरस्कार शुरू किया गया है। देसी नस्लों की गाय-भैंस पालन को बढ़ावा देने के लिए यह पुरस्कार दिया जाएगा। 👉 गोपाल रत्न पुरस्कार में तीन श्रेणियों में पुरस्कार दिया जाता है, जिसमें सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान, सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन (एआईटी) और सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी / दुग्ध उत्पादक कंपनी / एफपीओ को पुरस्कार दिया जाता है। 👉 यह अवार्ड ऐसे पशुपालक को दिया जाता है, जो गाय की 40 देसी नस्लों और भैंस की 10 देसी नस्लों में से किसी का पालन करता हो। इस पुरस्कार का मुख्य उद्देश्य भारत की गाय और भैंस की देसी नस्लों का संरक्षण करना है। 👉 पात्र किसान/डेयरी सहकारी समितियां/एआई तकनीशियन पुरस्कार के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। पुरस्कार के लिए ऑनलाइन आवेदन 15 जुलाई 2021 से शुरू होगा। जबकि विजेताओं की घोषणा 31 अक्टूबर 2021 को की जाएगी। 👉 एक जून को विश्व दुग्ध दिवस के अवसर पर केंद्रीय मत्स्यपालन पशुपालन और डेयरी मंत्री गिरिराज सिंह ने एक वर्चुअल कार्यक्रम में इन पुरस्कारों की घोषणा की है। इस अवसर पर बोलते हुए, मंत्री जी ने कहा कि भारत डेयरी देशों में एक वैश्विक लीडर है और 2019-20 के दौरान 198.4 मिलियन टन दूध का उत्पादन किया। 2018-19 के दौरान दूध के उत्पादन का मूल्य वर्तमान कीमतों पर 7.72 लाख करोड़ रुपये से अधिक है जो गेहूं और धान के कुल उत्पादन के मूल्य से भी अधिक है। स्रोत:- गांव कनेक्शन, 👉 प्रिय किसान भाइयों अपनाएं एग्रोस्टार का बेहतर कृषि ज्ञान और बने एक सफल किसान। यदि दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगी, तो इसे लाइक👍🏻करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
2
0
संबंधित लेख